रिपोर्ट : छात्रवृत्ति के नाम पर हजारों-करोड़ों का घोटाला

12 August 2018

🚩स्वतंत्र भारत में अबतक लाखों-करोड़ों के घोटाले हो चुके हैं, आज आम व्यक्ति किसी काम के लिए कोई सरकारी ऑफिस में चला जाए तो अधिकतर जगहों पर कुछ न कुछ तो रिश्वत देनी ही पड़ती है, तभी काम होता है | नेताओं से लेकर चपरासी तक सभी जगह भ्रष्टाचार व्याप्त है | इसकी वजह से आज भी हजरों करोड़ो का घोटाले होते रहते है । सरकार आम जनता, किसानों या छात्रों के लिए जो बजट सहायता के लिए भेजती है, उसे ऊपर से लेकर नीचे तक सभी मिलकर हड़प लेते हैं, जिसके नाम से भेजा गया है उसको तो मिलता ही नहीं है  ।
🚩अभी हाल ही में देश में अनुसूचित जाति के छात्रों की पोस्ट-मैट्रिक स्कॉलरशिप के नाम पर बड़े घोटाले का खुलासा हुआ है । उतर प्रदेश, महाराष्ट्र, पंजाब, तमिलनाडु और कर्नाटक में कैग की ऑडिट के दौरान इस खेल का खुलासा हुआ । पिछले पांच सालों में आंख मूंदकर इन राज्यों में, 18 हजार करोड़ रुपये से अधिक की छात्रवृत्ति बंटी | न नियमों का ख्याल किया गया, न उपभोग प्रमाणपत्र लिए गए, न ही किसी तरह की जांच हुई | चौंकानेवाली बात तो यह रही कि एक ही रोल नंबर, एक ही जाति प्रमाणपत्र पर हजारों छात्रों को धनराशि जारी कर दी गई | इससे सिस्टम में शिक्षा माफिया से लेकर अफसरों की भूमिका पर बड़े सवाल खड़े होते हैं | 187581 छात्रों के खाते में तो निर्धारित से 4967.19 लाख रुपए ज्यादा भेज दिए गए |
🚩केवल नमूना जांच में इतनी गड़बड़ियां सामने आई हैं, बताया जा रहा है कि अगर ओ.बी.सी. से लेकर जनरल आदि वर्गों की सभी छात्रवृत्ति वितरण की जांच हो तो यह देश के बड़े घोटालों में से एक होगा | वर्ष 2018 की रिपोर्ट नंबर 12 में नियंत्रक एवं महालेखा परीक्षक (कैग) ने देश में दलित छात्रों की छात्रवृत्ति लूट की पोल खोलकर रख दी है | कैग ने सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्रालय से वित्तीय अनियमितताओं की जांच कराकर दोषी अफसरों पर कार्यवाही की संस्तुति की है। साथ ही छात्रवृत्ति वितरण की मौजूदा व्यवस्था बदलकर फुलप्रूफ व्यवस्था लागू करने की सिफारिश भी की है। दरअसल पोस्टमैट्रिक स्कॉलरशिप को दशमोत्तर छात्रवृति कहते हैं, जो दसवीं से ऊपर की कक्षाओं के छात्रों को मिलती है ।
🚩खेल ऐसा कि चौंक जाएंगे आप : कैग ने 2012 से लेकर 2017 तक की ऑडिट के दौरान केवल उत्तर-प्रदेश में कुल 1.76 लाख ऐसे मामले पकड़े गए, जिसमें एक ही क्रमांक के जाति प्रमाणपत्र पर 233.55 करोड़ रुपए बांटने का खुलासा हुआ । इसी तरह 34652 केस ऐसे मिले, जिसमें अभ्यार्थियों के आवेदन में एक ही क्रमांक यानी सेम हाईस्कूल की सर्टिफिकेट लगी रही । ऐसे आवेदनों पर 59.79 करोड़ रु जारी हुए | इसी तरह 13303 ऐसे मामले रहे, जिसमें एक ही बोर्ड रोल नंबर और एक ही जाति प्रमाण पत्र से 27.48 करोड़ का खेल हुआ |
🚩हैरानी की बात यह रही कि ऑनलाइन साफ्टवेयर ने जब यह खेल पकड़ा तो भी संदिग्ध डेटा को विभागीय जिम्मेदारों ने करेक्ट कर दिया | यानी इन गड़बड़ियों को दुरुस्त कर खाते में धनराशि भेज दी । दरअसल ऐसी दो या तीन बार आवेदन कर कोई पैसा न हासिल कर ले या फिर एक ही प्रमाणपत्र पर कई छात्रों को छात्रवृत्ति न मिले, इसके लिए सक्षम पोर्टल पर अभ्यार्थियों का डेटा अपलोड होता है । यह पोर्टल एक ही सीरियल नंबर के दो या दो से अधिक सर्टिफिकेट मिलने पर संबंधित आवेदन को इनकरेक्ट श्रेणी में डाल देता है । मगर जिम्मेदारों ने इस इनकरेक्ट डेटा को करेक्ट कर फ्रॉड किया | इससे इस छात्रवृत्ति वितरण घोटाले में कॉलेज से लेकर ऊपरी स्तर तक मिलीभगत के संकेत मिलते हैं |
🚩कैग ने जांच में पाया कि 2016-17 के 1566 छात्रों के डेटा को करेक्ट कर दिया गया । जबकि सक्षम पोर्टल ने एक ही प्रमाणपत्र, रोल नंबर के चलते इन छात्रों को फेल कर दिया था । उत्तर प्रदेश में 57 मामले पकड़े गए, जहां ज्यादा इनकमवाले सर्टिफिकेट पर भी धनराशि जारी कर दी गई | जबकि दो लाख से ज्यादा सालाना वार्षिक आय होने पर लाभ नहीं मिलना था । पांच राज्यों में 187581 छात्रों को 4967.19 लाख रुपए का अधिक भुगतान हुआ | बी.ए., बी.एस.सी., बी.कॉम. जैसे कोर्स के लिए अधिकतम फीस 5000 रुपए निर्धारित थी, मगर इससे ज्यादा पैसा लुटाया गया |
🚩कैग ने की इतने जिलों की नमूना जांच : देश की सबसे बड़ी ऑडिट एजेंसी ने उत्तर प्रदेश के 75 में से केवल दस जिलों के सौ कॉलेजों की जांच कर ही बड़ी गड़बड़ी पकड़ी | इसी तरह कर्नाटक के 30 में से आठ, महाराष्ट्र के 36 में से नौ, पंजाब के 22 में से छह, तमिलनाडु के 32 में से आठ जिलों के कुल 12900 में से 410 संस्थानों को जांच में शामिल किया । इन संस्थानों में रजिस्टर्ड 337700 में से 8200 अभ्यार्थियों के आवेदनों की जांच की गई, तब जाकर भारी पैमाने पर घोटाले का खुलासा हुआ | उतर प्रदेश के कॉलेजों में नमूना जांच सत्र 2016-17 में हुई । उतर प्रदेश में छात्रृवत्ति घोटाले की कई बार शिकायतें कर चुके पूर्वांचल विश्वविद्यालय से जुडे शिक्षक नेता अनुराग मिश्रा कहते हैं – यह तो नमूना है, अगर उतर प्रदेश में शुरुआत से लेकर अब तक सभी वर्गों की छात्रवृत्ति वितरण की जांच हो तो केवल एन.आर.एच.एम. घोटाले से कई गुना बडा घोटाला निकलेगा | अनुराग कई बार उतर प्रदेश सरकार को जांच के लिए पत्र लिखते रहे, मगर जांचपत्र कूड़ेदान में फेंक दी जाती रही |
🚩कैग ने कैसी-कैसी गडबडियां पकड़ीं : कैग ने जांच के दौरान पाया कि छात्रवृत्ति को लेकर उत्तरदायी सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता विभाग ने कोई एक्शन प्लान ही नहीं बनाया | न ही मंत्रालय ने ऐसा कोई सर्कुलर जारी किया, जिससे 2012-17 तक की अवधि में छात्रवृत्ति के लिए, छात्रों की पात्रता का समुचित मूल्यांकन हो सके । योग्य छात्रों का डेटाबेस ही नहीं उपलब्ध मिला । जांच में पता चला कि छात्रवृत्ति वितरण में 1986 में गठित कमेटी की संस्तुतियों के अनुसार टाइमलाइन का भी पालन नहीं हुआ | अखबारों में हर साल छात्रवृत्ति के बारे में सूचना भी नहीं प्रचारित हुई |
🚩कैग ने कहा है कि, अनुसूचित छात्रों को छात्रवृत्ति देने का मकसद था कि वे बिना किसी आर्थिक बाधा के उच्च शिक्षा हासिल कर सकें | मगर पांचों राज्य आंकडा ही नहीं उपलब्ध करा सके कि कितने छात्रों ने छात्रवृत्ति के जरिए अपना कोर्स कंप्लीट किया । मॉनीटरिंग फ्रेमवर्क का अभाव रहा । कैग की ऑडिट में पता चला कि केंद्र और राज्यांश मिलाकर उतर प्रदेश में कुल 1580 करोड़ की धनराशि उपलब्ध रही, मगर इसमें से 7332.72 करोड़ रुपए की छात्रवृत्ति ही बंटी | इतना ही नहीं उतर प्रदेश, महाराष्ट्र, तमिलनाडु में 375.30 करोड़ रुपए बैंक खाते या नाम के मिसमैच करने से बंट नहीं सका |
🚩उपभोग प्रमाणपत्र ही नहीं दिए – नियम के अनुसार किसी योजना के तहत मिली धनराशि का कितना इस्तेमाल हुआ इसका उपभोग प्रमाणपत्र संबंधित संस्थाओं को धनराशि जारी करनेवाले विभाग या मंत्रालय को देना पड़ता है । मगर नमूना जांच में शामिल राज्यों में पैसे का उपभोग प्रमाणपत्र भी नहीं दिया गया । इससे बड़े पैमाने पर धनराशि के दुरुपयोग का अंदेशा होता है | महाराष्ट्र में जांच के दौरान पता चला कि नौ में से छह जिलों के समाज कल्याण आयुक्त ने संस्थाओं से न उपभोग प्रमाणपत्र मांगा और न ही दिया । तमिलनाडु में 2012-13 और 2013-14 के दौरान क्रमशः 377.49 और 899.49 करोड़ की धनराशि का समय से उपभोग प्रमाणपत्र नहीं जमा मिला । 
स्त्रोत : जनसत्ता
🚩भ्रष्टाचार को लेकर लोगों में फैले आक्रोश के कारण बीते चार सालों में #केंद्र और #दिल्लींसरकार बदल गई, लेकिन #सरकारीक्षेत्रों में अभी भी #भ्रष्टाचार खत्म नहीं हो पाया है । सरकारी महकमों में भ्रष्टाचार की जड़ कितनी गहरी फैली हुई है इसका पता केंद्रीय सतर्कता आयोग (#सीवीसी) द्वारा प्राप्त रिपोर्ट से स्पष्ट हो जाता है । #देशभर में भ्रष्टाचार से जुड़ी शिकायतों में भारी वृद्धि हुई है । केंद्रीय सतर्कता आयोग (सीवीसी) की वार्षिक रिपोर्ट में साल 2014 में भ्रष्टाचार से जुड़ी 64,490 शिकायतें आने की बात कही गई है। #संसद में हाल ही में पेश रिपोर्ट के मुताबिक वर्ष 2013 की तुलना में 2014 में भ्रष्टाचार की शिकायतों में 82.29 फीसदी की वृद्धि दर्ज की गई । वर्ष 2013 में ऐसी 35,332 शिकायतें मिली थीं ।
🚩भ्रष्टाचार से तंग जनता ने भले ही #सरकार बदल दी हो, लेकिन हालात नहीं बदले हैं । #दुनियाभर में #विशेषज्ञों की राय के आधार पर #ट्रांसपेरेंसीइंटरनेशनल की करप्श न #परसेप्शरन्सभइंडेक्सर (#सीपीआई) में देशों के सरकारी विभागों में व्याप्त भ्रष्टाचार का अनुमान लगाया जाता है । #सीपीआई द्वारा 2015 में जारी रिपोर्ट के अनुसार 168 देशों की सूची में #भारत का स्थान 76वाँ है ।
🚩निजी या #सार्वजनिक #जीवन के किसी भी स्थापित और स्वीकार्य मानक का चोरी-छिपे उल्लंघन भ्रष्टाचार है । भारत में राजनीतिक एवं नौकरशाही का भ्रष्टाचार बहुत ही व्यापक है । इसके अलावा #न्यायपालिका, #मीडिया, #सेना, #पुलिस आदि में भी #भ्रष्टाचार व्याप्त है ।
🚩सभी को मिलकर इस  भ्रष्टाचार के खिलाफ खड़ा होना होगा नहीं तो ये लोग तो देश को भी अपने स्वार्थ के लिए बेच सकते है ।
🚩Official Azaad Bharat Links:👇🏻
🔺Youtube : https://goo.gl/XU8FPk
🔺 Twitter : https://goo.gl/kfprSt
🔺 Instagram : https://goo.gl/JyyHmf
🔺Google+ : https://goo.gl/Nqo5IX
🔺 Word Press : https://goo.gl/ayGpTG
🔺Pinterest : https://goo.gl/o4z4BJ
Advertisements

सत्यमेव जयते फ़िल्म में खुला राज, कौन रोक रहा है भारत को शक्तिशाली बनने से

🚩देखिए वीडियो
12 August 2018
🚩इलेक्ट्रॉनिक और प्रिंट मीडिया में सेक्युलर लोग भारतीय संस्कृति और देश के खिलाफ जमकर दुष्प्रचार कर रहे हैं । इन दुष्प्रचार के आज की युवा पीढ़ी गुमराह हो रही है, जिसके कारण आजकल वे भी अपने ही संस्कृति, देवी-देवताओं, साधु-संतों और मंदिरों की मजाक उड़ाने लगे हैं ।
Open Raj in Satyamev Jayate Film, who is
stopping India from becoming powerful
🚩सत्यमेव जयते फ़िल्म में भी कुछ ऐसे ही बताया गया है, कुछ युवा चाय के स्टाल पर चाय पीते-पीते अखबार पढ़ रहे थे, उस अख़बार में एक हिन्दू संत के लिए कुछ लिखा था और वे उसे पढ़कर मजाक उड़ाने लगे फिर एक नवयुवक जो हिन्दू संस्कृति को समझता था, उसने उन्हें क्या जवाब दिया है, इसे सुनकर आप भी चौक जाएंगे ।
🚩नवयुवक ने भ्रमित युवकों को बताया कि वैसे भी संतो का काम ही क्या है ? जंगल मे जाकर तपस्या करना, मौन होकर बैठे रहना और ज्यादा से ज्यादा लोगों को उपदेश देना ।
🚩अगर करना ही है तो हिन्दुओं को लालच देकर दूसरे धर्म मे घसीटो ।
🚩सही काम तो,  देश मे अश्लीलता, भ्रष्टाचार, अशांति फैलाकर मल्टीनेशनल कंपनियां भारत को लूट कर रही है । 
🚩गुलामी तो हम करते ही आए हैं, कभी अंग्रेजो की तो कभी मुगलों की, 
क्या बोलते हो ?  
🚩और हिन्दू संत आशारामजी बापू ने क्या किया ?  
धर्मांतरण पर रोक, वेलेन्टाइन डे पर रोक…, कि्समस डे पर रोक, गौ हत्या पर रोक और बाप रे बाप ! वेस्टर्न कल्चर पर रोक और इतने बड़े-बड़े रिस्की डिसीजन बापू ने अपने दम पर ले लिए । 
🚩और पता है  कि अगर सिस्टम साथ नही देगा तो विधर्मी लोग  बापू की संस्था को जीरो मिशन तक पहुँचा सकते हैं ।  पर बापू तो बापू है ना !
🚩भले ही हिन्दु धर्म व भारतीय संस्कृति को बचाने के लिए मिट जाएंगे, लेकिन पीछे नहीं हटेंगें 
क्या जरुरत थी  बापू को दिन मे दो दो तीन तीन  जगहों पर सत्संग करने की ?  और वो भी बिना किसी फीस या डोनेशन के ।
🚩आखिर क्या जरुरत थी गुरुकुल खोलने की ? जहाँ आधुनिक शिक्षा के साथ-साथ संस्कार भी मिलते हैं ।
🚩हमारे देश ने टेक्नोलॉजी के क्षेत्र में तो बहुत विकास किया, लेकिन कोई ये सोचता है कि मेरे भारत का बच्चा-बच्चा चरित्रवान कैसे बनें ? संयमी , सदाचारी और बलवान कैसे बनें ? 
🚩और दीवाली में बापू कहाँ जाते हैं, पता है ?  उन गरीबों,आदिवासियों के बीच जिनको ठीक से खाने की दो वक्त की रोटी, कपड़ा और मकान नहीं ।
🚩अरे भाई जरा समझो,  संतो पर आरोप लगाकर जेल में डालना जरुरी है क्योंकि उनके द्वारा विधर्मीयों  के मंसूबे नाकाम हो रहे थे । और आखिर भारत में कानून तो सबके लिए एक है ना, देखो बड़े-बड़े लोगों को  बेल और संतो को जेल ?  
🚩कुछ नहीं बहुत सारे दोष हैं, उनके ।
🚩1.युवा सेवा संघ खोल दिए, लाखों युवान नशा नहीं करते संयमी जीवन जीते हैं और राष्ट्र भक्त बन रहे हैं, ये कोई कम गुनाह है ?
🚩2. ऋषि प्रसाद पत्रिका द्वारा लोगों को सुखी, स्वस्थ व सम्मानित जीवन की कला सिखाना l
🚩3. बाल संस्कार केन्द्र खोले, जिसमें बच्चों को अच्छे संस्कार मिल रहे हैं ।
🚩4. महिलाओं को  आत्मनिर्भऱ व सम्मानित बनाने के लिए महिला उत्थान मंडल खोले, कितना बड़ा गुनाह है ये ।
🚩अरे भाई… गुनाहों की लिस्ट तो अभी बाकी है ।
🚩5. कत्लखाने जा रही हजारों गायों को बचाकर गौ पालन करना ।
🚩6 गरीबों को राशन कार्ड देना व भंडारो का आयोजन करना |
🚩7. मुफ्त चिकित्सा सेवाएं देना |
🚩बाबाओं को संपत्ति की क्या जरुरत थी?
🚩क्या जरुरत थी ?  बापू को प्राकृतिक आपदाओं मे अन्न , जल व वस्त्र पहुँचाने की ।
संपत्ति की जरुरत तो धर्मांतरण, नशाखोरी, अश्लीलता, भ्रष्टाचार फैलाने वालो को है ।
इन सब पर रोक लगाने वालों को और इतनी सारी सेवा करने के लिए कहाँ जरुरत है संपत्ति की ?  
🚩पर कौन आशारामजी बापू  के पीछे लगा है ?
🚩नंबर 1. जो लोग भारत को फिर से गुलाम बनाना चाहते हैं और अपना धर्म भारत में फैलाना चाहते हैं, ऐसी विदेशी मिशनरियाँ ।
🚩नंबर 2.. हिन्दु धर्म को बदनाम करने वाली – फॉरेन फंडेड मीडिया । 
🚩नंबर 3. मल्टीनेशनल कंपनीज ।
रमेश
🚩सच को झूठ और झूठ को सच बनाने का जिसके पास आइडिया है उसी का नाम मीडिया है । और बापू मीडिया वालों को पैसा कहाँ देने वाले थे ?  कभी मीडिया में उनके सेवाकार्यो की एक पट्टी भी चलती देखी तुमने ?  
क्या होने वाला है वेलेन्टाइन डे की जगह मातृ-पितृ पूजन दिवस, क्रिसमस डे को तुलसी पूजन दिवस मनाने से ?  
और ये विश्वगुरु भारत और सबका मंगल, सबका भला से क्या होने वाला है ?  
कुछ नही ।
🚩नहीं चाहिए हमें स्वस्थ, सुखी और सम्मानित भारत, नहीं चाहिए हमें शिवाजी, महाराणा प्रताप, भगत सिंह, झाँसी की रानी जैसे वीर देशभक्त ?
नहीं चाहिए हमें ऐसे संत जो भारतीय संस्कृति का डंका पूरे विश्व में बजाते हैं । 
🚩तो फिर करते रहो गुलामी,  बँटते रहो धर्म के नाम पर ।
🚩अरे मेरे बाप… एक बार नही सौ बार कहता हूँ, वर्तमान में हिन्दु धर्म को बचाने वाले अगर कोई हैं तो सिर्फ बापू जैसे संत ही हैं । इसलिए करोड़ों रुपए खर्च करके बापू आसारामजी के ऊपर गंदा आरोप लगवाकर उन्हें जेल में डलवाया । अरे मेरे भाई…  अब तो समझो अगर बापू  को इसी तरह जेल रखा गया तो भारतीय संस्कृति और हिन्दु धर्म की रक्षा कौन करेगा ? फिर हमारे देश में घोर अपराध बढ़ते जायेंगें । और फिर ये देश कभी विश्वगुरु नही बन पायेगा ।
🚩सच कहता हूँ अगर जल्दी बापू जी बाहर नही आए तो आने वाले 100-200 साल तक ये लड़ाई लड़नेवाला और कोई नही होगा । फिर करते रहना 
मेरा भारत महान ।  मेरा भारत महान ।
🚩फिर बापू आसरामजी जेल में है क्यों हैं ?  
बापू जी जेल में हैं क्योंकि वो एक हिंदु संत हैं ।
बापू जेल में है क्योंकि वो सनातन धर्म व संस्कृति के लिए लड़ते हैं ।
बापू जेल में है क्योंकि वो राष्ट्र को मानते हैं राजनेता को नहीं ।
बापू जेल में है क्योंकि वो धर्म को मानते हैं धर्मांतरण को नहीं ।
बापू जेल में है क्योंकि हम निष्क्रिय हैं ।
बापू जेल में है क्योंकि बापूजी निर्दोष हैं ,अगर दोषी होते तो वो बाहर होते।
🚩प्रशासन निर्दोष, मीडिया निर्दोष, नेता निर्दोष, न्यायालय निर्दोष, अपने आपको निर्दोष कहने वाले ये लोग निर्दोष है कि नहीं ये मैं नही जानता पर बापू जी निर्दोष थे , हैं व रहेंगें ।
🚩लोग उनकों क्यो मानते हैं  ?  
किसी की श्रद्धा का प्रमाण  न्यायालय या मीडिया नहीं हो सकती है । उसका स्वंय का अनुभव होता है ।  
🚩जरा सोचो  इतना सब होने पर भी बापू के करोड़ों भक्तों का विश्वास अभी भी कायम है । अरे कुछ तो होगा उनके पास ?
🚩इतना सामर्थ्य होने पर बापू जी बाहर क्यों नहीं आते ?  
🚩कौन कहता है कि बापू आसारामजी जेल में हैं । जेल में तो हमारे देश कि अस्मिता, संस्कृति, धर्म है । और सामर्थ्य का उपयोग संत अपने लिए थोड़े ही ना करते हैं ?  जैसे जगदगुरु शंकराचार्य की माँ की अंत्येष्ठी के लिए उनके गाँववालों ने लकड़ी तक नहीं दी । तुकारामजी महाराज सामर्थ्यवान होते हुए भी कीर्तन में पत्थर के झाँझ का उपयोग करते थे । ऐसे ही संत ज्ञानेश्वर, बुद्ध भगवान आदि भी थे । अरे…  कबीर जी को भी जेल जाना पड़ा था । और तो और संत तो क्या भगवान होते हुए भी श्री रामजी नागपाश में बंध गये थे ।  वाह … वाह री दुनिया … वाह री दुनिया को लोगों… संतों ने तुम्हें क्या दिया और संतों को तुम क्या दे रहे हो । 
🚩शंकाचार्यजी को भी झूठे आरोप में फँसाया फिर वो निर्दोष बरी हुए साध्वी प्रज्ञा , स्वामी असीमानंद को भी निर्दोष बरी किया गया । ऐसे ही बापू जी को फँसाया गया है । वे भी अवश्य निर्दोष बरी होगे ।  और याद रखो, चाहे जो हो जाये पर भारत विश्व गुरु बनकर ही रहेगा । I Support Asharamji Bapu
🚩Official Azaad Bharat Links:👇🏻
🔺Youtube : https://goo.gl/XU8FPk
🔺 Twitter : https://goo.gl/kfprSt
🔺 Instagram : https://goo.gl/JyyHmf
🔺Google+ : https://goo.gl/Nqo5IX
🔺 Word Press : https://goo.gl/ayGpTG
🔺Pinterest : https://goo.gl/o4z4BJ

थाईलैंड में बन रहा है भगवान श्रीराम का भव्य मंदिर, पढ़ाई जाती है रामायण.

11 August 2018
🚩मुस्लिम शासक आक्रमणकारी बाबर 1527 में फरगना से भारत आया था, बाबर के आदेश से उसके #सेनापति मीर बाकी ने 1528 ई. में श्रीराम #मन्दिर को गिराकर वहाँ एक #मस्जिद बना दी थी । मंदिर तोड़ रहे थे, उस समय इस्लामी आक्रमणकारियों से मंदिर को बचाने के लिए रामभक्तों ने 15 दिन तक लगातार संघर्ष किया, जिसके कारण आक्रमणकारी मंदिर पर चढ़ाई न कर सके और अंत में मंदिर को तोपों से उड़ा दिया। इस संघर्ष में 1,36,000 रामभक्तों ने मंदिर रक्षा हेतु अपने जीवन की आहुति दी ।
🚩भगवान श्री राम का मंदिर टूटने के बाद #हिन्दू समाज एक दिन भी चुप नहीं बैठा । वह लगातार इस स्थान को पाने के लिए #संघर्ष करता रहा, लेकिन आजतक मंदिर नहीं बन पाया । वहीं दूसरी ओर थाईलैंड में भव्य मंदिर बन रहा है ।
🚩राम जन्मभूमि निर्माण न्यास ट्रस्ट थाईलैंड में मंदिर बनवा रहा है । बुधवार को अयुथया में इसके लिए भूमि पूजन किया गया । 
The grand temple of Lord Shriram is being
built in Thailand, it is taught Ramayana.
🚩‘भारत को विश्वगुरु बनाएगा यह मंदिर’
🚩महंत शरण ने कहा, ‘‘थाईलैंड में बन रहा राम मंदिर भारत को विश्वगुरु के रूप में स्थापित करेगा । इससे भगवान राम की विचारधारा का प्रचार भारत के बाहर भी होगा ।’’ महंत ने बताया कि यह मंदिर अयुथया शहर में सोराय नदी के किनारे बनाया जा रहा है । यह नदी शहर के बीच से होकर बहती है ।
🚩अयोध्या ही है, अयुथया का अर्थ
🚩इतिहासकारों के अनुसार, 15वीं सदी में थाईलैंड की राजधानी को अयुथया कहा जाता था । इसे स्थानीय भाषा में अयोध्या ही बोलते हैं । दक्षिण पूर्व एशिया के बौद्ध बहुल देश थाईलैंड के लोगों में हिन्दू धर्म के प्रति भी आस्था दिखती है । यहां के लोग अपने राजा को भगवान राम का वंशज मानते हैं और उन्हें विष्णु का अवतार कहते हैं । थाई संस्कृति और साहित्य का रामायण और श्रीराम से काफी जुड़ाव है । यहां के राजा अपने नाम के साथ राम लिखते थे । इसके अलावा थाईलैंड की राजधानी बैंकॉक को ‘महेंद्र अयोध्या’ भी कहते हैं । लोगों का मानना है कि यह ‘अयोध्या’ इंद्र ने बसाई थी । स्त्रोत : दैनिक भास्कर
🚩भगवान राम के समय ही राज्यों बँटवारा :-
🚩थाईलैंड में आज भी संवैधानिक रूप में राम राज्य है । इतिहास में बताया जाता है कि पश्चिम में लव को लवपुर (लाहौर ), पूर्व में कुश को कुशावती, तक्ष को तक्षशिला, अंगद को अंगद नगर, चन्द्रकेतु को चंद्रावती कहा जाता है । कुश ने अपना राज्य पूर्व की तरफ फैलाया और एक नाग वंशी कन्या से विवाह किया था । थाईलैंड के राजा उसी कुश के वंशज हैं l इस वंश को “चक्री वंश कहा जाता है l चूँकि राम को विष्णु का अवतार माना जाता है और विष्णु का आयुध चक्र है इसलिए थाईलैंड के लोग चक्री वंश के हर राजा को “राम ” की उपाधि देकर नाम के साथ संख्या दे देते हैं ।
🚩राष्ट्रीय ग्रन्थ रामायण:-
🚩बताया जाता है कि थाईलैंड में थेरावाद बौद्ध के लोग बहुसंख्यक हैं, फिर भी वहां का राष्ट्रीय ग्रन्थ रामायण है l जिसे थाई भाषा में “राम-कियेन” कहते हैं l जिसका अर्थ राम-कीर्ति होता है, जो वाल्मीकि रामायण पर आधारित है l इस ग्रन्थ की मूल प्रति सन 1767 में नष्ट हो गयी थी, जिससे चक्री राजा प्रथम राम (1736–1809), ने अपनी स्मरण शक्ति से फिर से लिख लिया था l थाईलैंड में रामायण को राष्ट्रीय ग्रन्थ घोषित करना इसलिए संभव हुआ क्योंकि वहां भारत की तरह दोगले हिन्दू नहीं है, जो नाम के हिन्दू हैं, हिन्दुओं के दुश्मन यही लोग हैं l
🚩आपको बता दे कि बैंकाक की सिल्पाकॉर्न विश्वविद्यालय के एसोसिएटेड प्राध्यापक बूंमरूग खाम-ए ने बताया कि थाईलैंड में रामायण लिटरेचर की तरह स्कूल और कॉलेजों के पाठ्यक्रम में शामिल है । विश्वविद्यालय के खोन (नाट्य) विभाग के छात्र सबसे अधिक रामलीला को पसंद करते हैं । थाईलैंड में रामायण को रामाकेन और रामाकृति बोलते हैं । जो वाल्मीकि रामायण से मिलती जुलती है, किंतु इसमें थाई कल्चर का समावेश है। उन्होंने बताया कि विश्वविद्यालय के अनेक विद्यार्थी रामायण पर पी.एच.डी. कर रहे हैं । इसमें से कुछ वर्ल्ड रामायण कांफ्रेंस में शामिल होने जबलपुर आए हैं ।
🚩बौद्ध बाहुल्य देश में  भगवान श्री रामजी और रामायण का महत्व है, तो भारत में कब भगवान श्री रामजी का मंदिर बनेगा और स्कूलों, कॉलेजों में रामायण पढ़ाई जायेगी ?
🚩Official Azaad Bharat Links:👇🏻
🔺Youtube : https://goo.gl/XU8FPk
🔺 Twitter : https://goo.gl/kfprSt
🔺 Instagram : https://goo.gl/JyyHmf
🔺Google+ : https://goo.gl/Nqo5IX
🔺 Word Press : https://goo.gl/ayGpTG
🔺Pinterest : https://goo.gl/o4z4BJ

जानिए गलत फैसला देनेवाले न्यायधीश को, ईश्वर कैसे देता है भयंकर दंड…

10 August 2018
🚩भारत की न्यायप्रणाली में काफी हद तक भ्रष्टाचार व्याप्त है, ये कई न्यायाधीश बता चुके हैं, सच को झूठ और झूठ को सच करने के लिए अनेक जज पैसे लेते भी पकड़े गए हैं, इससे साफ होता है कि जिसपर इंसान को भरोसा है वही भ्रष्टाचार में लिप्त है ।
🚩सूरत जेल में श्यामसुंदर अवधेश नारायण पांडे कई दिनों तक मेरे साथ मेरी बैरेक में रहे । उनके साथ सत्संग – हरिचर्चा व कई विषयों पर मेरी चर्चा होती रहती है । अक्सर मैं सुबह की मीठी धूप एकाध घंटा लेता हूँ । सूर्यस्नान के फायदे मैं जानता हूँ । कदाचित एक समय का भोजन मैं छोड़ सकता हूँ, लेकिन सूर्यस्नान को तो मैं भोजन से भी अधिक महत्त्व देता हूँ । भोजन से भी विशेष लाभदायक खुले बदन सूर्य की किरणों में घूमना या बैठना है – ऐसा मैं मानता हूँ ।
Know the judge who has given the wrong decision,
how God gives terrible punishment …
🚩इस मौसम में सुबह की धूप के समय, मैं पांडेजी के साथ बैठा था और “मेरी कलम से….” जो लिखता रहता हूँ उसके कुछ अंश उनको सुना रहा था । बातों ही बातों में चर्चा चल रही थी कि आजकल फँसाने के लिए कुछ भी किया जा सकता है । एक जेल के अधिकारी ने मुझे दो-चार दिन पहले ही बताया था कि उन्होंने अपनी आँखों से देखा था कि एक न्यायधीश अहमदाबाद में अपने घर पर शाम के वक्त कुर्सी लगाकर बैठते थे और कोई निर्दोष को सजा देने के लिए या किसी अपराधी को जेल से मुक्त करने के लिए मोटी रकम की ऑफर करता था तो वे उसी प्रकार के फैसले रूपये ले-देकर सुनाते थे । इसी बीच पांडेजी ने मुझे एक घटित घटना सुनाई ।
🚩पांडेजी ने कहा –
🚩मुझे मेरे पिताजी ने एक अपने जीवन की घटना सुनाई थी और न्यायधीश द्वारा इरादतन गलत सजा सुनाने से क्या दुष्परिणाम होता है, इसका एक प्रणाम उन्होंने बताया था ।
🚩घटना जबलपुर (म.प्र.) की है | तब हम हमारे परिवार के साथ जबलपुर में रहते थे । मेरे पिताजी ने मुझसे कहा था कि “गलत व्यवहार व आचरण का परिणाम भी गलत ही होता है, सदा याद रखना ।” एक न्यायधीश ने जबलपुर में अपने पद पर होते हुए, अपने न्यायधीश के पद का दुरूपयोग किया था । एक हत्या के केस में एक निर्दोष व्यक्ति को उन्होंने जानबुझकर सजा सुनाई और जिसको सजा सुनाई वह एक सज्जन साधू स्वाभाव का निर्दोष व्यक्ति था । जज को पता था कि मैं जिसे सजा दे रहा हूँ, वह दोषी नहीं है । लेकिन जो दोषी था उसे निर्दोष सिद्ध किया और जिसकी गलती थी ही नहीं, जो निरपराध था, उसे लम्बी सजा रिश्वत लेकर सुनाई । वास्तव में जो दोषी था उसे निर्दोष छोड़ दिया । शिकायतकर्ता ने ऐसे निर्णय लेने के पीछे न्यायधीश को मोटी रकम प्रदान की थी म
🚩हमारे मामाजी व पिताजी उस न्यायधीश साहब के घर पूजा आदि कराने अक्सर जाते रहते थे । मजिस्ट्रेट साहब ने अपने मुख से हमारे मामाजी को यह बात बतलायी थी और कहा था कि हमारे जीवन में यह एक बड़ी भूल हो गयी और हमें इसका बड़ा पछतावा भी है कि हमने एक निर्दोष-निरपराधी व्यक्ति को सजा सुनाई है ।
🚩न्यायधीश ने कहा कि सजा सुनाने के बाद हमारे दाएं हाथ में कोढ़ हो गया है हमारे हाथ के दाएं अंगूठे से  पीव-मवाद निकलने लगा है । हाथ से लिखना व कार्य करना मुश्किल हो गया है । इतना ही नहीं उन्होंने अपने न्यायधीश के पद से भी इस्तीफ़ा दे दिया और कहने लगे कि ऐसी कोई पाठ-पूजा या अनुष्ठान करें-करवाएं कि जिसने हमारा यह अपराध निवृत्त हो जाए और हमारी दुर्गति भी न हो । यह कोढ़ भी मिट जावे । मामाजी ने इस विषय में असमर्थता दिखाई, तब वे जज साहब इस्तीफ़ा देने के बाद नर्मदा किनारे चले गए । गहना कर्मणो गतिः….
🚩मामाजी ने उनको सही सलाह दी । किसीको मुँह दिखाने में भी उनको शर्म आने लगी । मतलब न्यायाधीश भी एक मनुष्य है और इस पद पर रहते हुए बहुत सावधानी बरतने की आवश्यकता है । न्यायाधीश एक भगवान का स्वरुप होता है । इस पद का दुरूपयोग करने का परिणाम भी बहुत भयंकर आ सकता है । लोगों के प्रति न्याय करनेवाले न्यायधीश द्वारा अगर लोभ-लालच या स्वार्थ में आकर अन्यायकारी फैसले लिए जाते हैं, तो ईश्वर उनको दण्डित करता ही है क्योंकि सबसे बड़े न्यायाधीश तो ईश्वर ही हैं । अतः प्रत्येक न्याय के पद पर बैठे हुए न्यायाधीश को भी ऊपरवाले न्यायाधीश से डरना चाहिए और अपने द्वारा किसीके साथ अन्याय तो नहीं हो रहा, इसकी विशेष रूप से सावधानी बरतनी चाहिए ।
– श्री नारायण साईं
(संदर्भ : विश्वगुरु ओजस्वी पत्रिका, अंक – 96)
🚩गौरतलब है कि हिन्दू संत श्री नारायण साईं पर 12 साल पुराना रेप केस लगा हुआ है । उनको बिना सबूत 4 साल से सूरत (गुजरात) जेल में रखा गया है, अभी तक एक भी सबूत उनके खिलाफ नही मिला है, जबकि लड़की ने कैसे षड्यंत्र रचा है उसके कई सबूत सामने आए हैं, लेकिन फिर भी उनको जमानत तक नही दी जा रही है, जबकि पत्रकार तरुण तेजपाल पर रेप केस सिद्ध हो गया है फिर भी आराम से बाहर गुम रहा है, इससे ज्यादा न्यायालय में भ्रष्टाचार का क्या सबूत चाहिए ?
🚩इसकी पुष्टि भी कई जज कर चुके हैं :
सुप्रीम कोर्ट के पूर्व न्यायधीश काटजू ने कहा था कि #भारतीय न्याय प्रणाली में 50% जज भ्रष्ट हैं ।
🚩सुप्रीम कोर्ट के पूर्व न्यायधीश संतोष हेगड़े भी सवाल उठा चुके हैं कि ‘धनी और प्रभावशाली’ तुरंत जमानत हासिल कर सकते हैं । #गरीबों के लिए कोई न्याय कि व्यवस्था नही है ।
🚩कर्नाटक हाईकोर्ट के पूर्व वरिष्ठ #न्यायधीश जस्टिस के एल. मंजूनाथ ने कहा कि यहाँ सत्यनिष्ठा और ईमानदारी के लिए कोई स्थान नहीं है और इस देश में न्याय के लिए कोई जगह नहीं ।
🚩इसलिये आज न्याय प्रणाली से देश कि जनता का भरोसा उठ गया है ।
🚩देश में करीब 2.78 लाख विचाराधीन कैदी हैं । इनमें से कई ऐसे हैं जो उस अपराध के लिए मुकर्रर सजा से ज्यादा समय जेलों में बिता चुके हैं । देश भर के जिला न्यायलयों में करीब 2.8 करोड़ मामले लंबित हैं ।
🚩आरोप साबित होने पर भी कई बड़ी हस्तियाँ बाहर घूम रहीं हैं और अभी तक जिन पर एक भी आरोप साबित नहीं हुआ है वो जेल में है ।
क्योंकि या तो न्याय पाने वाले गरीब हैं या तो कट्टर हिंदूवादी है इसलिए उनको न्याय नही मिल पाता है ।
🚩Official Azaad Bharat Links:👇🏻
🔺Youtube : https://goo.gl/XU8FPk
🔺 Twitter : https://goo.gl/kfprSt
🔺 Instagram : https://goo.gl/JyyHmf
🔺Google+ : https://goo.gl/Nqo5IX
🔺 Word Press : https://goo.gl/ayGpTG
🔺Pinterest : https://goo.gl/o4z4BJ

आइये जान लीजिए कि भारत में, ‘डरे’ हुए मुस्लिम कैसे फैला रहे हैं ‘खौफ’

08 August 2018
http://azaadbharat.org
🚩भारत एक हिन्दू राष्ट्र है, लेकिन विदेशी आक्रमणकारियों व मुगल लुटेरों ने, भारत में आकर, तलवार की नोक पर हिन्दुओं का, जबरन धर्मपरिवर्तन करवाकर उन्हें मुस्लिम बना दिया ।
🚩सुब्रमण्यम स्वामी आज भी दावा करते है कि कोई भी मुसलमान यदि DNA करवाएगा तो वो हिन्दू ही निकलेगा, फिर भी धर्मपरिवर्तन के बाद, जो मुसलमान मजहब की परंपरा चल पड़ी है, वे मुगलों की तरह कट्टरवादी ही बने रहे हैं । सहिष्णु हिंदुओ को दबाने की कोशिश आज भी भरपूर चल रही है और उसपर भी हिंदुओं को, असहिष्णु घोषित किया जा रहा है ।
🚩‘‘मुसलमानों में बेचैनी का एहसास है और उनमें असुरक्षा की भावना घर कर रही है, वे डरे हुए हैं |” अगस्त, 2017  में पूर्व उपराष्ट्रपति हामिद अंसारी ने ये बयान दिया था । इससे साफ जाहिर है कि उन्होंने अपनी सोच के, सीमित दायरे से देश को अवगत कराया था ।
🚩बहरहाल तथाकथित सेक्यूलर और बॉलीवुड के कलाकार भी सवाल उठाते रहे हैं कि ‘भारत में मुस्लिम होना कितना मुश्किल है |’ यही नहीं इसके साथ, दुनिया भर में दुष्प्रचार किया जा रहा है कि हिन्दू बेहद खतरनाक हैं ।
🚩आपको बता दें कि ये वही देश है जहां 1947 में 3 करोड़ मुसलमान थे, जो आज बढ़कर 25 करोड़ हो गए हैं । जाहिर है, बिना हिन्दुओं की सहिष्णुता और सहयोग के यह असंभव था ।
🚩रही ‘डर’ की बात, तो कुछ नेताओं के बयान हम नीचे लिखने जा रहे हैं जो ये साबित करते हैं कि हामिद अंसारी जो कहते रहे हैं, उसके उलट मुसलमान ‘डरे’ हुए नहीं, बल्कि ‘गद्दार’ हैं और हिन्दुओं के बीच खौफ फैला रहे हैं ।
🚩06 अगस्त, 2018 को असदुद्दीन ओवैसी का बयान : ‘‘हम हिन्दुओं का इस्लाम में धर्मांतरण करवाकर, हिन्दुओं से दाढी रखवाएंगे ।”
🚩09 जुलाई, 2018 को जफरयाब जिलानी का बयान : ‘‘हर जिले में शरिया अदालतें हों ताकि मुस्लिम लोग अपने मसलों को अन्य अदालतों के बजाय दारूल कजा में सुलझाएं ।”
🚩30 जनवरी, 2018 को मुफ्ती नासिर इस्लाम का बयान : ‘‘17 करोड की जनसंख्या पर पाकिस्तान बन गया, हम तो 20 करोड़ हैं । मुसलमानों को हिन्दुस्तान से अलग हो जाना चाहिए ।”
🚩28 मार्च, २2018 को इमरान मसूद का बयान : “गुजरात में 4% मुसलमान हैं, यहां 40% । नरेन्द्र मोदी यहां आ जाए तो उसकी बोटी-बोटी कर डालेंगे |”
🚩03 जनवरी, 2013 को अकबरुद्दीन ओवैसी का बयान : “पुलिस हटा दो, हम 25 करोड़ मुसलमान, 100 करोड़ हिन्दुओं को खत्म कर देंगे ।”
🚩अब आप समझ सकते हैं कि आखिर देश तोड़ने, हिन्दुओं का नरसंहार करने और अपनी अदालतें खोलने जैसे बयान क्या कोई डर कर देता है ।
🚩इसके उलट हम पाकिस्तान की तस्वीर बताते हैं . . .
🚩भारत से जितने भी मुसलमान पाकिस्तान गए थे, उनको पाकिस्तानी लोग मुहाजिर, यानि ‘मुल्क का गद्दार’ कहकर बुलाते हैं । यह स्थिति आज भी बनी हुई है और पाकिस्तान में इनका कत्लेआम दिन-रात किया जा रहा है ।
🚩कराची में ही डेढ़ लाख से अधिक भारतीय मुसलमान, यानि मुहाजिर मारे जा चुके हैं | मुहाजिरों के लीडर अल्ताफ हुसैन कहते भी रहे हैं, ‘‘हिन्दुओं हम से गलती हुई जो हमने पाकिस्तान मांगा, खुदा के लिए हमें माफ करो और वापस बुला लो, पनाह दे दो ।’’
🚩अब पाकिस्तान और बांग्लादेश में हिन्दुओं की स्थिति भी जान लीजिए ताकि असल ‘डर’ का पता लग सके ।
🚩पाकिस्तान में 1947 में 27 प्रतिशत हिन्दू जनसंख्या थी, जो घटकर आज महज 1.5 प्रतिशत हो गई है । इसी तरह बांग्लादेश में 1947 में 37 प्रतिशत हिन्दू जनसंख्या थी, जो आज घटकर महज 8 प्रतिशत रह गई है | जाहिर है ‘डर’ सहिष्णु हिन्दू के साये में नहीं, बल्कि कट्टर धर्मांध मुस्लिमों के बीच रहने में है ।
🚩बहरहाल भारत में राष्ट्रपति, उपराष्ट्रपति और सर्वोच्च न्यायालय के न्यायाधीश जैसे अहम पदों को मुसलमान सुशोभित कर चुके हैं । इसी तरह बॉलीवुड से लेकर समाज में इनकी पूरी स्वीकार्यता है, परंतु फिर ‘दहशत’ फैलानेवाले कौन हैं, ‘डर’ दिखानेवाले कौन हैं, इन्हें भी पहचानना आवश्यक है ।
🚩स्त्रोत : परफॉर्म इंडिया
🚩अफगानिस्तान, बांग्लादेश, पाकिस्तान जो पहले अखण्ड भारत का हिस्सा था, लेकिन मुसलामानों ने टुकड़े करके उसे अलग देश बना दिया और पहले से जो हिन्दू रह रहे थे, उनपर भीषण अत्याचार किया जा रहा है, जिसके कारण हिन्दू वहाँ से पलायन कर रहे हैं या उनका जबरन धर्मपरिवर्तन किया जा रहा है, इस चीज लिए कोई कुछ नही बोलता है, सभी चुप्पी साधे बैठे हैं ।
🚩भारत में मुसलमान इतना सुरक्षित है कि जितना मुस्लिम बाहुल देश में भी नही है, फिर भी हमेशा सहिष्णु हिन्दुओं को ही टारगेट किया जाता रहा है | मीडिया बॉलीवुड द्वारा भी यही बताया जा रहा है कि हिन्दू हिंसा करते है
इससे साफ होता है कि अरब आदि देशों से भारत के हिंदुओं को बदनाम करने के लिए भारी फंडिग भी मिलती होगी ।
🚩हिंदुओ को जाति-पाति छोड़कर एक हो जाना चाहिए और हिन्दू संस्कृति पर आघात कर रहे, षड़यंत्रकारियों को करारा जवाब देना चाहिए ।
🚩Official Azaad Bharat Links:👇🏻
🔺Youtube : https://goo.gl/XU8FPk
🔺 Twitter : https://goo.gl/kfprSt
🔺 Instagram : https://goo.gl/JyyHmf
🔺Google+ : https://goo.gl/Nqo5IX
🔺 Word Press : https://goo.gl/ayGpTG
🔺Pinterest : https://goo.gl/o4z4BJ
On the black law of SC / ST Act, the Bharatiya Bhaktas attacked BJP

SC/ST एक्ट का काला कानून बरकरार रखने पर, राष्ट्रभक्तों का भाजपा पर हमला

09 August 2018
🚩SC/ST एक्ट के का काफी दुरुपयोग भी किया जा रहा था, अधिक झूठे मामले  सामने आने के कारण, अदालतें भी परेशान हो गई थी, जिससे सुप्रीम कोर्ट ने तुरंत गिरफ्तारी पर रोक लगा दी थी और सुप्रीम ने यहाँ तक कह दिया था कि डी.एस.पी. स्तर के अधिकारी के जांच के बाद ही एफ.आई.आर. दर्ज होगी एवं उसके बाद गिरफ्तारी होगी, लेकिन सुप्रीम कोर्ट की बात को मान्य नहीं रखकर मोदी सरकार ने पुराने और मूल स्वरूप में वही कानून फिर से लागू कर दिया ।
🚩इससे काफी राष्ट्रभक्त आहत होकर मीडिया में खुलकर बोल रहे हैं ।
On the black law of SC / ST Act, the Bharatiya Bhaktas attacked BJP
🚩सोशल मीडिया पर जनार्दन मिश्रा ने अपनी फेसबुक पर लिखा है कि  ’56″ब्रेस्ट वाले’ ने सुप्रीम कोर्ट का सही निर्णय पलट कर, दलित वोट की खातिर SC/ST एक्ट का काला कानून बरकरार रखा, एस.सी./एस.टी. संशोधन विधेयक 2018 के जरिए मूल कानून में धारा 18 A जोड़ी जाएगी । इसके जरिए पुराने कानून को बहाल कर दिया जाएगा । इस तरीके से सुप्रीम कोर्ट के द्वारा बनाया प्रावधान रद्द हो जाएगा और अब ये प्रावधान होगा-
🚩-एस.सी./एस.टी. एक्ट में केस दर्ज होते ही गिरफ्तारी का प्रावधान है ।
🚩-आरोपी को अग्रिम जमानत नहीं मिल सकेगी, हाईकोर्ट से ही नियमित जमानत मिल सकेगी ।
🚩-एस.सी./एस.टी. मामले में जांच, इंस्पेक्टर रैंक के पुलिस अफसर करेंगे ।
🚩-जातिसूचक शब्दों के इस्तेमाल संबंधी शिकायत पर तुरंत मामला दर्ज होगा ।
🚩-एस.सी./एस.टी. मामलों की सुनवाई सिर्फ स्पेशल कोर्ट में होगी ।
🚩-सरकारी कर्मचारी के खिलाफ अदालत में चार्जशीट दायर करने से पहले, जांच एजेंसी को अथॉरिटी से इजाजत नहीं लेनी होगी…….
🚩कहाँ हो, कौन से बिल में जा कर छुप गए हो , सवर्ण सम्मान के रक्षकों, तुम तो कहते थे, राजीव गांधी ने मुस्लिम वोट की खातिर शाहबानो प्रकरण में सुप्रीम कोर्ट का फैसला पलट कर मुस्लिम तुष्टिकरण किया था, आज 56 इंच” की क्या मजबूरी है ? जब सरकार कोर्ट के फैसलों को, अध्यादेश लाकर पलट रही है , तो क्या ये दलित तुष्टिकरण नही है ?
🚩किसी भाजपा के बड़े नेता से अगर राम मंदिर के बारे में पूछो, तो वो मामला कोर्ट में है, का रोना रोने लगता है, धारा 370 का पूछो तो वो बहुमत का रोना रोने लगता है, गौरक्षकों की हत्या पर पूछो, तो वो उन्हें गुंडा करार दे देता है, लव जिहाद पर पूछो तो वो कहता है, ऐसा कुछ नहीं होता, ये सब मन का वहम है, 
BJP को मत हराओ, नही तो मुस्लिम शासन आ जाएगा । NOTA मत दबाओ नही तो मुस्लिम शासन आ जायेगा । आरक्षण मत हटाओ नही तो मुस्लिम शासन आ जाएगा । SC/ST ऐक्ट मत हटाओ नही तो मुस्लिम शासन आ जाएगा ।।।।।।। आखिर इन जुमलों से कब तक डराओगे ??
🚩जिस डाल बैठे उसी डाल को काटना, SC/ST एक्ट पर भी बीजेपी वही काम कर रही है । अपने सबसे बड़े वोट बैंक (सवर्ण) को खत्म कर रही है ।
🚩1. IIT की फीस SC ST की फ्री, जनरल वालों की दोगुना !!
भक्त – अरे तुम्हे फीस की पड़ी है यहाँ हिन्दू ख़तरे में है !!
🚩2. देश में सिविलसर्विस की कोचिंग अल्पसंख्यक, SC, ओबीसी के लिए फ्री लेकिन जनरल वालों के लिए नही !!
भक्त -अरे तुम्हे कोचिंग की पड़ी है यहाँ हिन्दू ख़तरे में है!!
🚩3. उज्ज्वला योजना SC ST OBC के लिए,  जनरल वालों के लिए नही ।
भक्त – अरे तुम्हे योजनाओंकी पड़ी है, यहाँ हिन्दू ख़तरे में है ।
🚩4. SC/ST के लड़कों द्वारा ठाकुर ब्राह्मण,बनिया की लड़कियों से शादी( इंटरकास्ट मैरिज ) करने के लिए प्रोत्साहन राशि बढ़ाई गई है और पिछली सरकार की अपेक्षा नियमो को आसान बनाया गया ।
भक्क्त – अरे तुम्हे ब्याह की पड़ी है यहाँ हिन्दू ख़तरे में है ।
🚩5. SC/ST एक्ट, में भाजपा सरकार ने अपराधों की सूची 22 से बढ़ाकर 47 की ।
भक्त -अरे ! तुम्हे SC ST एक्ट की पड़ी है यहाँ हिन्दू ख़तरे में है ।
🚩6.बसपा ने माना SC/ST एक्ट का दुरूपयोग होता है इसलिए सीधे गिरफ्तारी पे रोक लगाई, लेकिन ये तो साहब बसपा से भी ज्यादा गिरे हुए निकले ।
भक्क्त – अरे तुम्हे बसपा की पड़ी है यहाँ हिन्दू ख़तरे में है ।
🚩7. सपा सरकार ने UP में आते ही प्रॉमोशन में आरक्षण खत्म किया । वहीं भाजपा ने MP में प्रोमोशन में आरक्षण लागू किया ।
भक्त – अरे तुम्हे सपा की पड़ी है, यहाँ हिन्दू ख़तरे में है ।
🚩8. कांग्रेस ने कर्नाटक में गरीब सवर्णों की मदद के लिए सवर्ण आयोग बनाया, भाजपा ने 1 भी काम सवर्ण हित के लिए किया हो तो बताओ ???
भक्त -अरे तुम्हे कांग्रेस की पड़ी है, यहाँ हिन्दू ख़तरे में है ।
🚩हमारा धर्म हजारों-लाखों सालों से चला आ रहा है, अभी तक खतरे में नही आया, लेकिन जब से ये मोदी जी को कुर्सी मिली है तभी से क्यों खतरे में आ गया ? समझ नहीं आता कि धर्म खतरे में है या मोदी की कुर्सी खतरे में है ???
भक्त- अरे ! असम में 40 लाख घुसपैठी निकले हैं, तुम्हे पता भी है ।
अबे लपडझंडेसो…चुनाव से पहले तो तुम रोहिंग्यो को भी गिना रहे थे, कश्मीरी पण्डित भी गिना रहे थे, कितनों का निपटारा किया ??
तुम बस आंकडे ही गिनाओगे !!
हमें 25 रुपये की चायना झालर के लिए रोकते हो और खुद चायना से पूरी बैंक ले आते हो ।
हमें पाकिस्तान का पाठ पढ़ाते हो और खुद उस देश की बिरयानी खाकर देश के किसानों को मारने के लिए चीनी ले आते हो ।
भक्त – “प्लीज़ हिंदुओं मोदी जी का पेट मत चीरो, ये हिन्दुओं की आखिरी उम्मीद है ।”
वाह रे ! दलालों योजनाओं के वक्त तुम्हारा हिदुत्व प्रेम कहाँ मर जाता है ? योजनाओ में फिर जातिप्रमाण पत्र क्यों माँगते हो ? अगर इतने ही हिन्दुओं के ठेकेदार बन रहे हो तो बताओ 4 साल में कौन सा ऐसा मुस्लिम विरोधी काम किया है जिससे हिन्दू को फायदा मिला हो ??
फिर क्यों देते हो मुस्लिम लड़कियों को शादी में 51,000 रुपये ??
फिर क्यों मुस्लिमान लड़को को सिविल सर्विस की फ्री कोचिंग देते हो ??
देश मे पढ़ लिखकर सुप्रीम कोर्ट मे बैठे जजों को भी लगता है, SC/ST एक्ट का दुरप्रयोग होता है, लेकिन ये अनपढ़ जाहिल लोग अब सही और गलत का निर्णय लेंगे ।
…………………..
🚩मेरा धर्म भी हिन्दू है, तेरा धर्म भी हिन्दू है ।
ना मैं खतरे में हूं, ना तू खतरे में है । बस जिसका भगवान मोदी है उसी का धर्म खतरे में है ।
🚩इस प्रकार से अनेक देशभक्त आहत हुए हैं, आपको बता दें कि आज़ाद भारत किसी भी जाति को नही मनाता है । केवल हिन्दू चाहे वे कोई भी जाति का क्यों न हो ब्राह्मण, राजपूत, वैश्य, शुद्र वे अपने कर्म के अनुसार वर्ण है, लेकिन हमारी नजर में सब हिन्दू ही हैं और हमें एक होकर रहना चाहिए, लेकिन कानून कोई भी गलत हो उसके बारे में विरोध करना हर हिन्दुस्तानी का कर्तव्य है चाहे दहेज, बलात्कार आदि कानूनो का भी भयंकर दुरपयोग हो रहा है, उसमें भी संशोधन होना जरूरी है ।
🚩Official Azaad Bharat Links:👇🏻
🔺Youtube : https://goo.gl/XU8FPk
🔺 Twitter : https://goo.gl/kfprSt
🔺 Instagram : https://goo.gl/JyyHmf
🔺Google+ : https://goo.gl/Nqo5IX
🔺 Word Press : https://goo.gl/ayGpTG
🔺Pinterest : https://goo.gl/o4z4BJ

बांग्लादेशियों को, भारत में बसाने के पीछे सोनिया गांधी का हाथ : विकिलीक्स

07 August 2018
🚩नेता वोटबैंक के लिए कुछ भी कर सकता है, चाहे देश की सुरक्षा खतरे में चली जाए, आतंकवादी हमले कर दें, हिन्दुओं की सम्पति पर कोई अधिकार कर ले या देश में जनसंख्या बढ़ जाए, इससे नेताओं को कोई लेना-देना नही होता है, कई नेता अच्छे भी हैं, लेकिन चूँकि भारत में भ्रष्ट नेताओं की संख्या अधिक है, जिसके कारण ईमानदार नेता भी सहीं से कार्य नही कर पाते हैं ।
🚩भारतवासी नेता भी अधिकतर देशहित के निर्यण न लेकर, वोटबैंक कैसे बढ़े इस बारे में ही सोचते हैं तो फिर विदेश से आई सोनिया गांधी तो देशहित के लिए सोच ही कैसे सकती है ?
🚩आज देश में जनसंख्या बढ़ रही है, उसकी परेशानी बढ़ रही है ऊपर से करोड़ों बांग्लादेशी अवैध रूप से भारत में बस गए हैं, जिससे भारत को और भी अधिक परेशानी उठानी पड़ रही है ।
Sonia Gandhi’s hand behind Bangladeshi settlers in India: WikiLeaks
🚩बांग्लादेशीयों को, सोनिया गांधी कैसे स्थायी बनाना चाहती थी रिपोर्ट देख लीजिए…
🚩नेशनल रजिस्टर ऑफ सिटीजन के मुद्दे पर, देश में गर्म राजनीति के बीच विकीलीक्स ने एक नया खुलासा किया है । विकीलीक्स के नए खुलासे में यू.पी.ए. चेयरपर्सन सोनिया गांधी और कांग्रेस पर निशाना साधा गया है । खुलासे में कांग्रेस पर बंगलादेशी घुसपैठियों का साथ देने का आरोप लगाया गया है ।
🚩खुलासे में कहा गया है कि 2006 में जो कानून लाया गया था, उसके तहत असम में रह रहे बंगलादेशीयों को विदेशी साबित करने की जिम्मेदारी प्रशासन की थी । जिसके बाद कांग्रेस ने 2006 में, नए कानून पेश किए थे । विकीलीक्स ने आरोप लगाया है कि मुस्लिम वोटों को अपने पक्ष में करने के लिए, तत्कालीन कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने अपील की थी कि उनकी सरकार प्रवासियों के कानून को बदलने पर विचार कर सकती है ।
🚩विकीलीक्स के खुलासे में लिखा गया है कि कांग्रेस को डर था कि उसके हाथ से मुस्लिम वोट खिसक रहे हैं, जिसे देखते हुए यह अपील की गई थी । लिखा गया है कि मुस्लिम कांग्रेस का वोट बैंक रहा है और उनका रुख बंगलादेशी प्रवासियों के हक में रहा है । बता दें कि इसी से जुड़े कानून को 2011 में, उच्चतम न्यायालय ने असंवैधानिक करार दिया था । 
स्त्रोत : पंजाब केसरी
🚩काँग्रेस ने अपनी वोटबैंक बढ़ाने के लिए देश में करोड़ों बांग्लादेशियों को बसा दिया ।
🚩बांग्लादेशी भारत में उपद्रव करते हैं, आतंकवादी गतिविधियां पाई गई है । देश की सुरक्षा को बंगलादेशी घुसपैठियों से खतरा है । देश की सुरक्षा के मद्देनजर इन्हें शीघ्र बाहर करना होगा ।
🚩भारत में अवैध घुसपैठियों को, अल्पसंख्यक की सारी सुविधाएं दी जा रही है, दूसरी ओर बांग्लादेश में बस रहे हिंदुओ पर, भीषण अत्याचार किया जा रहा है |
🚩बांग्लादेश माइनॉरिटी वॉच के अध्यक्ष अधिवक्ता #श्री रवींद्र घोष ने कहा कि बांग्लादेश जब से स्वतंत्र हुआ है, तब से आज तक वहां 15 लाख से अधिक हिन्दुओं की हत्या की गई है । स्वतंत्रता के पश्‍चात जब से वहां के शासन ने, संविधान में इस्लाम धर्मानुसार, आचरण करने की धारा घुसाई, तब से निरंतर वहां के हिन्दुओं की, धार्मिक स्वतंत्रता के अधिकारों को नकारा जा रहा है । वहां के हिन्दुओं को किसी प्रकार का न्याय अथवा अधिकार नहीं मिलता, अपितु हिन्दुओं की भूमि बलपूर्वक दबा ली गई ।
🚩हिन्दू लड़कियों का अपहरण कर बलात्कार किए जाते हैं । हिन्दुओ के घर-दुकाने जला दी जाती है, सम्पति हड़प ली जाती है,  विद्यालय के बुद्धिमान हिन्दू विद्यार्थियों को मारा जाता है । अभी तक #बांग्लादेश में #3 सहस्र 336 मंदिर तोड़े गए हैं । ऐसे विविध प्रकार से हिन्दुओं पर #अत्याचार और अन्याय किया जाता है तथा उस प्रत्येक घटना के विरोध में #‘बांग्लादेश मायनॉरिटी वॉच’ संघर्ष कर रहा है । 
🚩अखण्ड भारत को जिहादियों ने खण्ड-खण्ड कर दिया, पाकिस्तान, अफगानिस्तान, बांग्लादेश बना दिया, उसमे पहले से ही स्थायी रूप से रह रहे हिन्दुओं पर भीषण अत्याचार किया जा रहा है, वहीं दूसरी ओर भारत मे अवैध रूप में बस रहे, बंगलादेशीयों को सारी सुख-सुविधाएं दी जा रही है, यह कहाँ का न्याय है ?
🚩बंगलादेशीयों और रोहिंग्याओं को शीघ्र बाहर करना होगा, तभी देश की सुरक्षा बनी रहेगी ।
🚩Official Azaad Bharat Links:👇🏻
🔺Youtube : https://goo.gl/XU8FPk
🔺 Twitter : https://goo.gl/kfprSt
🔺 Instagram : https://goo.gl/JyyHmf
🔺Google+ : https://goo.gl/Nqo5IX
🔺 Word Press : https://goo.gl/ayGpTG
🔺Pinterest : https://goo.gl/o4z4BJ