इतिहास देख लो हयातिकाल में सभी संतों की भयंकर निंदा हुई है, बाद में लोग पूजते हैं

🚩भारत देश #ऋषि-मुनियों, #साधु-संतों का देश रहा है, उनके ही मार्गदर्शन में राजसत्ता चलती थी, भगवान #श्रीकृष्ण भी #संदीपनी ऋषि के पास जाते थे, भगवान #श्री राम भी उनके गुरु #वशिष्ठ के पास से सलाह सूचन लेने के बाद ही कुछ निर्यण लेते थे, वर्तमान में भी देश सच्चे साधु-संतों के कारण ही देश में सुख-शांति है और देश की संस्कृति जीवित है।
See history, all saints have been severely condemned
 in the Hyattikalal, people worship afterwards
🚩वर्तमान में #विदेशी फंड से चलने वाली #मीडिया द्वारा एक #कुचक्र चल रहा है जिसमें सभी #हिन्दू साधु-संतों को #बदनाम #किया जा रहा है, भारत की भोली जनता भी उन्हीं को सच मानकर अपने ही धर्मगुरुओं की निंदा करने लगी है और बोलते हैं कि पहले जैसे साधु-संत नहीं हैं पर अगर वे भगवान श्री राम के गुरु की योगवासिष्ठ महारामायण पढ़े तो उसमें भगवान श्री रामजी के गुरुजी विशिष्ठ जी कहते है की “मैं बाजार से गुजरता हूँ तो मूर्ख लोग मेरे लिए न जाने क्या-क्या बोलते हैं पर मेरा दयालु स्वभाव है मैं सबको क्षमा कर देता हूँ ।”
🚩त्रेतायुग में भी भगवान रामजी जिनको पूजते थे उनको भी जनता ने नही छोड़ा तो आज तो कलयुग है लोगों की मति-गति छोटी है इसलिए साधु-संतों की निंदा करेंगे और उनके भक्तों को अंधभक्त ही बोलेंगे ।
🚩आइये आपको बताते हैं पहले जो महापुरुष हो गए उनकी कैसी निंदा हुई और बाद में कैसे लोग पूजते गए..
🚩स्वामी विवेकानंदजी
🚩अत्याचार : ईसाई #मिशनरियों तथा उनकी कठपुतली बने #प्रताप मजूमदार द्वारा दुश्चरित्रता, स्त्री-लम्पटता,  ठगी, जालसाजी, धोखेबाजी आदि आरोप लगाकर अखबारों आदि के द्वारा बहुत #बदनामी की गयी ।
🚩परिणाम : काफी समय तक उनकी जो निंदाएँ चल रही थी उनका प्रतिकार उनके अनुयायियों ने भारत में सार्वजनिक सभाएँ आयोजित करके किया और अंत में #स्वामी विवेकानंदजी के पक्ष की ही #विजय हुई । (संदर्भ : युगनायक विवेकानंद, लेखक – स्वामी गम्भीरानंद, पृष्ठ 109, 112, 121, 122)
🚩महात्मा बुद्ध
🚩अत्याचार : #सुंदरी नामक बौद्ध भिक्षुणी के साथ अवैध संबंध एवं उसकी #हत्या के #आरोप लगाये गये और सर्वत्र घोर #दुष्प्रचार हुआ ।
🚩परिणाम : उनके शिष्यों ने सुप्रचार किया । कुछ समय बाद #महात्मा बुद्ध #निर्दोष साबित हुए । लोग आज भी उनका आदर-सम्मान करते हैं ।
(संदर्भ : लोक कल्याण के व्रती महात्मा बुद्ध, लेखक – पं. श्रीराम शर्मा आचार्य, पृष्ठ 25)
🚩संत कबीरजी
🚩अत्याचार : अधर्मी, शराबी, वेश्यागामी आदि कई घृणित #आरोप लगाये गये और बादशाह #सिकंदर के आदेश से कबीरजी को #गिरफ्तार किया गया और कई प्रकार से सताया गया ।
🚩परिणाम : अंत में #बादशाह ने #माफी माँगी और शिष्य बन गया ।
(संदर्भ : कबीर दर्शन, लेखक – डॉ. किशोरदास स्वामी, पृष्ठ 92 से 96)
🚩संत नरसिंह मेहताजी
🚩अत्याचार : जादू के बल पर स्त्रियों को आकर्षित कर उनके साथ स्वेच्छा से विहार करने के #आरोप लगाकर खूब बदनाम व #प्रताड़ित किया गया ।
🚩परिणाम : #नरसिंह मेहताजी #निर्दोष #साबित हुए । आज भी लाखों-करोड़ों लोग उनके भजन गाकर पवित्र हो रहे हैं ।    (संदर्भ : भक्त नरसिंह मेहता, पृष्ठ 129, प्रकाशन – गीताप्रेस)
🚩स्वामी रामतीर्थ
🚩अत्याचार : #पादरियों और #मिशनरियों ने लड़कियों को भेजकर दुश्चरित्र सिद्ध करने के #षड्यंत्र रचे और खूब #बदनामी की । जान से मार डालने की धमकी एवं अन्य कई प्रताड़नाएँ दी गयी।
🚩परिणाम : स्वामी रामतीर्थजी के सामने बड़ी-बड़ी #मिशनरी #निरुत्तर हो गई। उनके द्वारा प्रचारित वैदिक संस्कृति के ज्ञान-प्रकाश से अनेकों का जीवन आलोकित हुआ । (संदर्भ : राम जीवन चित्रावली,  रामतीर्थ प्रतिष्ठान, पृष्ठ 67 से 72)
🚩संत ज्ञानेश्वर महाराज
🚩अत्याचार : कई वर्षों तक समाज से #बहिष्कृत करके बहुत अपमान व निंदा की गयी । इनके माता-पिता को 22 वर्षों तक कभी तृण-पत्ते खाकर और कभी केवल जल या वायु पीके जीवन-निर्वाह करना पड़ा । ऐसी #यातनाएँ ज्ञानेश्वरजी को भी सहनी पड़ी ।
🚩परिणाम : #लाखों-करोड़ों लोग आज भी संत ज्ञानेश्वर जी द्वारा रचित ‘#ज्ञानेश्वरी गीता’ को श्रद्धा से पढ़-सुन के अपने हृदय में #ज्ञान-भक्ति की ज्योति जगाते हैं और उनका #आदर-पूजन करते हैं । (संदर्भ : श्री ज्ञानेश्वर चरित्र और ग्रंथ विवेचन, लेखक – ल.रा. पांगारकर, पृष्ठ 32, 33, 38)
🚩भक्तिमती मीराबाई
🚩अत्याचार : चरित्रभ्रष्टता का आरोप लगाया गया । कभी नाग भेजकर तो कभी #विष पिला के, कभी भूखे शेर के सामने भेजकर तो कभी #तलवार चला के जान से #मारने के #दुष्प्रयास हुए ।
🚩परिणाम : जान से मारने के सभी #दुष्प्रयास #विफल हुए । मीराबाई के प्रति लोगों की सहानुभूति बढ़ती गयी । उनके गाये पदोें को पढ़-सुनकर एवं गा के आज भी लोगों के विकार मिटते हैं, भक्ति बढ़ती है ।
🚩 वर्तमान में भी #शंकराचार्य श्री जयेन्द्र सरस्वतीजी, #स्वामी नित्यानंदजी, #स्वामी केशवानंदजी, श्री #कृपालुजी महाराज, #संत आशारामजी बापू, #साध्वी प्रज्ञा सिंह आदि हमारे #संतों को #षड्यंत्र में फँसाकर #झूठे आरोप लगा के #गिरफ्तार किया गया, प्रताड़ित किया गया, अधिकांश #मीडिया द्वारा #झूठे आरोपों को बढ़ा-चढ़ाकर दिखाया गया परंतु जीत हमेशा सत्य की ही होती रही है और होगी ।
🚩इतिहास उठाकर देखें तो पता चलेगा कि #सच्चे संतों व महापुरुषों की #जय-जयकार होती रही है और आगे भी होती रहेगी । दूसरी ओर #निंदकों की #दुर्गति होती है और समाज उन्हें घृणा की दृष्टि से ही देखता है । अतएव समझदारी इसीमें है कि हम संतों का आदर करके या उनके आदर्शों को अपनाकर लाभ न ले सकें तो कम-से-कम उनकी निंदा करके या सुनके अपने पुण्य व शांति को तो नष्ट न करें ।
🚩#सनातन धर्म के संतों ने जब-जब व्यापकरूप से #समाज को #जगाने का #प्रयास किया है, तब-तब उनको #विधर्मी ताकतों के द्वारा #बदनाम करने के लिए #षड्यंत्र किये गये हैं ।
जिनमें वे हिन्दू संतों को भी मोहरा बनाकर हिन्दू संतों के खिलाफ #दुष्प्रचार करने में सफल हो जाते हैं ।
🚩यह #हिन्दुओं की #दुर्बलता है कि वे विधर्मियों के चक्कर में आकर अपने ही संतों की निंदा सुनकर विधर्मियों की हाँ में हाँ करने लग जाते हैं और उनकी हिन्दू धर्म को नष्ट करने की गहरी साजिश को समझ नहीं पाते । इसे हिन्दुओं का भोलापन भी कह सकते हैं ।
🚩अतः हिन्दू सावधान रहें ।
🚩Official Azaad Bharat Links:👇🏻
🔺Youtube : https://goo.gl/XU8FPk
🔺 Twitter : https://goo.gl/kfprSt
🔺 Instagram : https://goo.gl/JyyHmf
🔺Google+ : https://goo.gl/Nqo5IX
🔺 Word Press : https://goo.gl/ayGpTG
🔺Pinterest : https://goo.gl/o4z4BJ
Advertisements

सृजनकर्म पत्रिका : टीवी पर देखा इसलिए सच ही हो ऐसा कोई जरूरी नही

🚩राजीव दीक्षित भाई का एक दुर्लभ व्याख्यान देखा जिसमे उन्होंने कहा कि पहले वे शंकराचार्य के मठ (शंकराचार्य के प्रसिद्ध 4 मठो में से एक )में रह कर कुछ समय कार्य किया यह हर साल 5000 करोड़ का दान, चढ़ावा आता है तो राजीव भाई ने एक दिन शंकराचार्य जी से पूछ लिया कि आप इन 5,000 करोड़ का क्या उपयोग करते हो, कहा खर्च करते हो?
🚩शंकराचार्य जी ने कहा ये 5,000 करोड़ से मैं कोई सेवा सुधार का कार्य नही कर पाता हूं ।
Creativity Magazine: Watching on
TV is therefore not so important …

 

🚩जिन लाखो करोड़ो हिन्दू परिवार के ऊपर की पीढ़ियों को ईसाई बनवा दिया गया था उन्हें पालता हु इनके लिए हमने स्कूल खोले, उनके बच्चो को पेन, पेंसिल, कपड़े, बैग, खाना जैसी हर जरूरी साधन उपलब्ध करवाते है और सिखाते है कि देखो तुम्हारे ऊपर की पीढ़ी तो हिन्दू ही थी तुम्हे छल से ईसाई बना दिया गया है और फिर बड़ी मेहनत मुश्किल और समय के बाद उन्हें फिर हिन्दू बनाता हूँ।
🚩राजीव भाई चौके और पूछा फिर भी 5,000 करोड़ तो बहोत है और इतने सालों से आप ये कर रहे है?
🚩शंकराचार्य जी ने कहा हर साल भारत मे विदेशो से 10,000 करोड़ से ज्यादा धन सिर्फ हिन्दूओ को ईसाई बनाने के लिए सेवा, समाज सुधार के नाम पर आ रहा है। एक बहोत बड़ा षड्यंत्र चल रहा है।
मेरे 5000 करोड़ भी कम पड़ जाते है।
🚩दाल में काला मुझे तब नज़र आया जब शंकराचार्य को मर्डर केस में आरोपी बनाकर जेल में डाल दिया कई साल हो गए और हमारी महान न्यायपालिका समझ नही पाई की हत्या किसने की? दूसरी ओर शंकराचार्य जी का कार्य रुक जाने से ईसाइयो की संख्या फिर बढ़ गयी और हिन्दू कम होने लगे।
🚩इधर मीडिया ने इसे हिंदुत्व पर आघात करते हुए प्रचार करना शुरु किया, इसे ब्रेकिंग न्यूज़, हेडलाइन न्युज़ बनाकर पहले पन्ने पर दिखाया ( याद रहे भारत मे चलने वाले न्यूज़ चैनल और मीडिया 85% यूरोप और दूसरे देशों का है, उनहे हिन्दू संतो को बलात्कारी, हत्यारा दिखाने का मौका चाहिए, यही कारण है कि आपने कभी किसी मौलवी या पादरी पर बलात्कार या हत्या का आरोप लगते टीवी न्यूज में नही देखा होगा )
🚩कुछ सालों बाद (शंकरचार्य जी के धन, मठ व समय की बर्बादी करने के बाद) न्यायपालिका ने कहा दिया शंकरचार्य निर्दोष है, हत्या किसी और ने की थी और अब एक भी मीडिया चैनल ने यह नही दिखाया और हिंदुओं ने तो यह मन मे बैठा लिया था कि सभी संत मठ अखाड़े आश्रम ढोंगी, हत्यारे है। हिटलर का पुराना फार्मूला है कि एक झूठ को 100 बार बोलो तो वो सच लगने लगता है।
🚩ऐसे ही हाल संत आसारामजी बापू के साथ किया गया है ।
🚩सिर्फ संत आसारामजी बापू के अनुयायी जानते होंगे कि उन्होंने भी हिन्दू ईसाइयो को फिर से हिन्दू बनाने के लिए हिम्मत भरी थी और इसके लिए उन्होंने पूरी रणनीति से काम किया जैसे फरवरी में आने वाला वैलेंटाइन डे (ईसाई त्योहार) जो हिन्दू युवाओ को धर्मभ्रष्ट आशिक बना रहा है उस दिन को बापू और उनके लाखो अनुयायी मातृ-पितृ पूजन दिवस के रूप में मनाने लगे।
🚩सुबह उठ कर भगवन्नाम के साथ योग तथा चिकित्सा के लिए एलोपेथी को आयुर्वेद से सब्स्टीट्यूट कर दिया इससे विदेशी कम्पनियों और ईसाई तादाद बढ़ाने वाले संगठनों को अरबो-खबरों का नुकसान हुआ, आप लोगो मे से जिसने भी बापू आसारामजी के प्रवचन सुने होंगे, नोट किया होगा कि बीच बीच मे बापू  आसारामजी हर बीमारी का आयुर्वेदिक ठोस इलाज शेयर किया करते थे, और संस्कृति से जुड़े रहने पर जोर देते थे।
🚩अब कहानी में मोड़ देखो, बापू जिनके पास 55,000 करोड़ से ज्यादा की संपत्तियों का समितियों के द्वारा संचालन है उन्हें एक लड़की पर हाथ फेरने के आरोप में जेल में ठूंसा गया।
*महत्वपूर्ण तथ्य -*
🚩आपने कभी इंटरनेशनल वेश्याओं के बारे में सुना हो कभी, जो देश विदेश घूम घुमकर कमी व रईस नेता और अभिनेताओं की प्यास बुझाती  है।और अपने को सनी लियॉन जैसा फिट आकर्षित, बैस्ट इम्प्लांट, कॉस्मेटिस सर्जरिया करवा करवा कर खुद को रहिस जादों के लिए ज्यादा उपयुक्त बना लेती है।
🚩अब अगर 55,000 करोड़ स्वामित्व वाली समितियों के संत को व्यभिचार करना ही है वह भी इतना मूर्ख तो होगा नही की अपनी ही अनुयायी पर हाथ आसानी से फस जाए ?
🚩आप देखे, बापू को केवल आरोपी बना कर जेल में डाल रखा है, अपराधी नही।
*इससे क्या लाभ होगा उन्हें?*
🚩1. कई साल केस चलेगा, कोर्ट और वकील भरपूर पैसा खीचेंगे, करोड़ो में।
🚩2. बापू के लिए यह अप्रत्यक्ष धमकी है कि अब वह ईसाई को हिन्दू न बनाए वरना फिर 20 साल बिना सबूत के जेल में डाल देंगे ।
🚩3. हिन्दुओ का संस्कृति, साधु संतो से विश्वास उठ जाएगा। मौलवियों और पादरियों पर मुस्लिमो, ईसाइयो सहित हिन्दुओ का  विश्वास प्रगाढ़ होगा, उनमे श्रद्धा जन्मेगी और अंततः हिन्दू ईसाई हो जाएगा।
🚩4. विदेशी कम्पनियों के खूब व्यापार चलेगा, उनको कोई रोक-टोक या लोगो को उनसे दूर नही करेगा ।
स्तोस्त्र : सृजनकर्म पत्रिका मार्च 2018
🚩अब आसाराम बापू को टीबी देखकर दोषी, चरित्रहीन मान ले ऐसा नही है क्योंकि जो लोग देश का पूरा इतिहास उलटने की कोशिश कर सकते है सनातन धर्म के विनाश के लिए उनके लिए देश के संत क्या चीज है ???
*ज़रा सोचिए*
🚩बापू आसारामजी को फ़साने में केवल राजनीति है जो विदेशी ताकतों एवं विदेशी Ngos और विदेशी कम्पनियां काम करती है अपने फायदे के लिए इसलिए मीडिया की बातों में आकर झूठ को सत्य न समझें अपनी बुद्धि का उपयोग जरूर करें ।
🚩Official Azaad Bharat Links:👇🏻
🔺Youtube : https://goo.gl/XU8FPk
🔺 Twitter : https://goo.gl/kfprSt
🔺 Instagram : https://goo.gl/JyyHmf
🔺Google+ : https://goo.gl/Nqo5IX
🔺 Word Press : https://goo.gl/ayGpTG
🔺Pinterest : https://goo.gl/o4z4BJ

हिन्दू धर्म को दुनियाभर में बदनाम करने के लिए कांग्रेस ने रचे थे अनेक षडयंत्र

🚩भारतीय संस्कृति इतनी महान है कि उसको तोड़ने के लिए विदेशी ताकतें लगी रही है और जो उसको बचाने के लिए आगे आते हैं उनको नष्ट करने का भरपूर प्रयास किया जाता है ।
🚩विदेशी ताकतों के इशारे पर चलने वाली कांग्रेस सरकार ने भारत देश में करीब 60 साल तक राज किया है उसमें भी आखिरी 10 साल में तो उन्होंने विदेशी ताकतों के इशारों पर भारतीय संस्कृति रक्षार्थ कार्य करने वालों को झूठे आरोपों द्वारा जेल भिजवा दिया और मीडिया द्वारा इतनी बदनामी करवाई कि आम जनता उनसे विमुख हो जाये।
🚩कांग्रेस ने हिन्दू धर्म को केवल भारत में ही नही वरन पूरी दुनिया में बदनाम करने के लिए कई षड्यंत्र रचे ।
जिसके तहत दो षड्यंत्र प्रमुख थे।
Congress had created many conspiracies to defame Hinduism in the world.

🚩1. हिन्दू आतंकवाद शब्द गढ़ना जिससे दुनिया को लगे कि हिन्दू संस्कृति खराब है और हिन्दू ही आतंकवादी होते हैं ।

🚩2. साधु संतों को मीडिया द्वारा बदनाम करवाकर उनकी छवि धूमिल करना, जिससे जनता उनसे नफरत करने लगे जिसे ईसाई मिशनरियों को धर्मांतरण करने में आसानी रहे ।
🚩कांग्रेस द्वारा हिन्दू आतंकवाद साबित करने के लिए कई हिंदुत्वनिष्ठों को निशाना बनाया गया ।
साध्वी प्रज्ञा ठाकुर
स्वामी असीमानंद
शंकराचार्य अमृतानंद
कर्नल पुरोहित
डीजी बंजारा
🚩दूसरे प्रकार के षड्यंत्र के तहत फंसाये गये हिंदुत्वनिष्ठ-
शंकराचार्य जयेंद्र सरस्वती –
सत्य साई बाबा
स्वामी नित्यानंद
श्री कृपालु महाराज
संत आसाराम बापू
🚩वर्तमान सरकार ने इन सभी देश भक्त लोगों को बारी-बारी से न्याय दिलवाया।
🚩इनमें से अब केवल संत आसाराम बापू ही जेल में हैं, बाकि सभी निर्दोष बरी हो चुके हैं ।
🚩कांग्रेस को बापू आसारामजी को बदनाम करवाने में बहुत पसीना आया, सबसे पहले 2008 में बापू आसारामजी के आश्रम में दो बच्चो की मौत का इल्जाम लगाया, मगर वहाँ से उनको क्लीनचिट मिल गई जिसके कारण वे सफल नही हो पाए।
🚩फिर कांग्रेस ने POCSO कानून बनाया और इस कानून का पहला शिकार बापू आसारामजी का किया गया ,क्योकि POCSO में जमानत होना भी मुश्किल होता है।
🚩आप भी जानिए कांग्रेस द्वारा संत आसाराम बापू को साइड करना क्यों जरूरी था –
🚩 – सबसे पहले ,राहुल गांधी को पप्पू बापू  आसारामजी ने ही कहा था।
🚩– बापू आसारामजी ने ही पहली बार कहा था ,सोनिया मैडम भारत छोड़ो।
🚩– झारखंड राज्य में बापू आसारामजी ने एक साल में लाखों आदिवासियों को दोबारा हिन्दू बनाया जो ईसाई बन चुके थे।
🚩-गुजरात, मध्यप्रदेश, राजस्थान जहाँ भारी मात्रा में ईसाई मिशनरियां धर्मान्तरण करवा रही थी वहाँ जाकर गरीबों को मकान बनवा कर दिया, जीवनुपयोगी  वस्तुएं दी और हिन्दू धर्म की महिमा बताई जिससे ईसाई मिशनरियों का मिशन फ्लॉप हो गया।
🚩– बापू आसारामजी हिन्दू धर्म को विश्व पटल के चरम पर पहुँचा रहे थे और भारत में धर्मान्तरण नही होने दे रहे थे जिसके कारण वेटिकन सिटी बापू आसारामजी के खिलाफ हो गया ।
🚩– बापू आसारामजी के देशभर में 40 से भी अधिक वैदिक गुरुकुल महंगी फीस ऎंठने वाले कान्वेंट स्कूलों पर भारी पड़ रहे हैं।
🚩– 2006 से बापू आसारामजी ने शुरू किया 14 फरवरी को मातृ-पितृ पूजन दिवस, जिसका बढ़ता प्रभाव देखकर वैलेंटाइन की दुकाने बंद होने लगी जिससे विदेशी कंपनियों को भारी नुकसान झेलना पड़ा ।
🚩– 2017 के गुजरात चुनाव में एक प्रमुख पादरी ने ईसाईयों से BJP को हराने को कहा। बापू आसारामजी ने अगले ही दिन मीडिया द्वारा राष्ट्रवादियों को जिताने का सन्देश भेज दिया।
🚩-हाल ही में DK त्रिवेदी कमीशन ने बापू आसारामजी को 2008 केस में क्लीन चिट दी तो कांग्रेस ने गुजरात विधानसभा में हंगामा शुरू कर दिया और BJP विधायक के ऊपर माइक से हमला कर दिया।
🚩– 2013 के झूठे रेप केस में भी जल्द ही फैसला आने की संभावना है। संत आसाराम बापू के बाहर आने के रस्ते खुलते नजर आ रहे हैं तो कइयों के राजनीतिक चूल्हे हिल जाएंगे इसलिए वे लोग अभी भी उनको अंदर रखना चाहते हैं पर सत्य को कबतक झूठ की परतों से ढका जा सकता है !!
🚩आपको बता दें कि न्यायालय में बहस के दौरान सारी परतें खुल चुकी हैं जिसमें उनको षडयंत्र तहत फंसाने के कई प्रमाण सामने आए हैं । अब 25 अप्रैल को जो फैसला आएगा वो उनके पक्ष में ही आयेगा ऐसा जानकारों का कहना है ।
🚩Official Azaad Bharat Links:👇🏻
🔺Youtube : https://goo.gl/XU8FPk
🔺 Twitter : https://goo.gl/kfprSt
🔺 Instagram : https://goo.gl/JyyHmf
🔺Google+ : https://goo.gl/Nqo5IX
🔺 Word Press : https://goo.gl/ayGpTG
🔺Pinterest : https://goo.gl/o4z4BJ

जेल से हिन्दू संत आसाराम बापू ने न्यायालय को लिखा पत्र

🚩हिन्दू संत बापू आसारामजी बिना सबूत पिछले 4 साल 7 महीने से जोधपुर जेल में न्यायिक हिरासत में हैं, फास्ट ट्रैक का ये केस जिसकी सुनवाई साल भर में पूरी हो जानी चाहिए थी, वो केस साढ़े चार साल से हांफ रहा था, अब जाकर न्यायालय में इस केस की सुनवाई पूरी हो चुकी है और 25 अप्रैल 2018 को निर्णय आने वाला है ।
🚩न्यायालय द्वारा दिनांक 25.04.2018 को सुनाये जाने वाले निर्णय के कारण कानून व्यवस्था भंग होने की जो आशंका सरकार ने व्यक्त की है उस संदर्भ में हिन्दू संत बापू आसारामजी ने अपना निवेदन निम्न मुद्दों पर प्रस्तुत किया।
from-jail-hindu-saint-asaram-bapu-wrote-letter-to-the-court
🚩1. पिछले लगभग पौने 05 वर्ष से लगातार न्यायालय में पेशियां होती रही हैं। जिसमें मेरे किसी भक्त द्वारा कानून व्यवस्था भंग करने की स्थिति उत्पन्न नहीं की गयी है। पेशी के दौरान न्यायालय के जाने वाले मार्ग तथा न्यायालय परिसर में कभी कभी जो भीड़ होती थी, वह मात्र दर्शन के लिए होती थी। दर्शनार्थी भक्तों में से किसी भक्त द्वारा कानून व्यवस्था भंग नहीं की गई है। हमारे भक्तों द्वारा कानून व्यवस्था भंग करने की स्थिति न तो आज तक उत्पन्न की गई है तथा ना ही कभी भंग की जा सकती है।
🚩2. हमारे विरुद्ध षड्यंत्रपूर्वक एक आरोप को बहुत तूल दिया गया है। जबकि हमारे द्वारा पिछले 55 वर्षों से राष्ट्र व समाज को सही दिशा में ले जाने हेतु जो कार्य किये गए हैं, उन्हें दबा दिया गया है। इन कार्यों की प्रशंसा देश के कई प्रधानमंत्रियों, राष्ट्रपतियों एवं न्यायविदों व समाज के हर वर्ग द्वारा की गई है।
🚩3. हमारी संस्था द्वारा हजारों बाल संस्कार केंद्र चल रहे हैं। गौशालाओं में लगभग 9000 गायों का पालन पोषण किया जा रहा है। संस्था द्वारा बच्चों व युवाओं को संस्कारित किये जाने का कार्य मातृ-पितृ पूजन दिवस जैसे कार्यक्रमों द्वारा किया जा रहा है। समाज में गरीब व पिछड़े लोगों के उत्थान के लिए कई सेवा प्रकल्प चलाये जाते हैं। स्नेह, सद्भाव, भाई चारा एवं राष्ट्रीय एकता की महता, बेटी बचाओ, बेटी पढाओं का नारा व नारी उत्थान के कार्य चलाये जाते हैं।
🚩माननीय न्यायालय व पुलिस तथा प्रशासन के अधिकारी जहाँ भी उचित समझे हम वही फैसला सुनने को सहमत हैं। हमारे द्वारा हमेशा न्यायपालिका एवं पुलिस प्रशासन के प्रति सद्भाव रहा है व रहेगा। – सादर आसाराम बापू
🚩गौरतलब है कि बापू आसारामजी का समाज व देशहित के सेवाकार्यों में अतुलनीय योगदान रहा है जिसकी भूरी-भूरी प्रशंसा बड़ी-बड़ी सुप्रसिद्ध हस्तियों ने उनके आश्रम को प्रशस्ति पत्र देकर की है ।
🚩आइये अब बापू आसारामजी द्वारा हुए सेवाकार्यों पर भी नजर डालें ।
🚩ईसाई मिशनरियों को दिन के तारे दिखाकर, लाखों ईसाई बने हिंदुओं की घरवापसी करवाई और धर्मांतरण पर रोक लगाई ।
🚩शिकागो विश्व धर्मपरिषद में स्वामी विवेकानंदजी के 100 साल बाद जाकर हिन्दू संस्कृति का परचम लहराया ।
🚩कत्लखाने जाती हजारों गौ-माताओं को बचाकर, उनके लिए विशाल गौशालाओं का निर्माण करवाया ।
🚩अभी हाल ही में राजस्थान पशु पालन विभाग की ओर से उनकी निवाई गौशाला को राजस्थान की सर्वश्रेष्ठ गौशाला घोषित कर पुरस्कृत किया गया है।
https://twitter.com/AshramGaushala/status/956841906549415937
🚩विदेशी कंपनियों से हो रही शारीरिक व आर्थिक हानि से देश को बचाकर आयुर्वेद/होम्योपैथी का प्रचार-प्रसार कर एलोपैथिक दवाईयों के कुप्रभाव से होने वाले रोगों से समाज को सचेत किया ।
🚩पाकिस्तान, अमेरिका, चाईना आदि बहुत सारे देशों में जाकर सनातन हिंदू धर्म का ध्वज फहराया ।
🚩देश में बढ़ती वृद्धाश्रमों की संख्या व बुजुर्ग माता-पिता की वेदना से व्यथित हो युवावर्ग को वेलेंटाइन डे जैसी कुरीति से मोड़कर “मातृ-पितृ पूजन दिवस”
जैसी अनोखी पहल की जिसे आज विश्वस्तर पर मनाया जाने लगा है ।
🚩क्रिसमस डे के दिन क्रिसमस ट्री के बजाय हिन्दू संस्कृति में पूजनीय, माँ तुलसी की पूजा करके ये दिन हिन्दू संस्कृति के अनुसार मनाने को प्रेरित किया ।
🚩बिकाऊ मीडिया को रुपयों के पैकेज ना देकर जगह-जगह पर गरीब इलाकों में चलचिकित्सालय चलवाकर निःशुल्क दवाईयाँ उपलब्ध करवाई  ।
🚩पिछले 50 वर्षों से लगातार आदिवासियों के बीच मुफ्त भंडारा,मकान, कपड़े, अनाज व दक्षिणा बांटने के साथ-साथ उन्हें हिन्दू संस्कृति की महिमा बताई ।
🚩नशा मुक्ति अभियान के द्वारा लाखों लोगों को व्यसन-मुक्त करवाया, जिसका भारी नुकसान विदेशी कंपनियों को झेलना पड़ा ।
🚩महिलाओं के सर्वागीण विकास के लिए जगह-जगह पर महिला मंडलों द्वारा नारी सशक्तिकरण के लिए कई अभियान चलाये ।
🚩17000 से भी अधिक बाल संस्कार केंद्र और अनेकों गुरुकुलों द्वारा बच्चों के सर्वागीण विकास के साथ-साथ बचपन से ही उन्हें अपनी संस्कृति की ओर अभिमुख किया ।
https://www.youtube.com/user/BaalSanskar
🚩हाई रेंज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड्स, संत श्री आशारामजी गुरुकुल, अहमदाबाद द्वारा बनाया गया विश्व में सबसे ऊंचा मानव पिरामिड ।
🚩भौतिकता और आध्यात्मिकता का समन्वय कर मानव में छुपी शक्तियों को जगाकर भारत को विश्वगुरु के पद पर आसीन करवाने में सदैव प्रयासरत रहने वाले बापू आसारामजी, जिनको “भारत रत्न” की उपाधि से अलंकृत करना चाहिए वो संत बिना किसी सबूत के सालों से जेल में हैं ।
🚩आज करोड़ों लोगों की नजरें सरकार व न्यायालय की ओर हैं कि वो कब देशहित, समाजहित, प्राणिमात्र के हित में सेवारत रहने वाले बापू आसारामजी के साथ इंसाफ करती हैं ।
🚩Official Azaad Bharat Links:👇🏻
🔺Youtube : https://goo.gl/XU8FPk
🔺 Twitter : https://goo.gl/kfprSt
🔺 Instagram : https://goo.gl/JyyHmf
🔺Google+ : https://goo.gl/Nqo5IX
🔺 Word Press : https://goo.gl/ayGpTG
🔺Pinterest : https://goo.gl/o4z4BJ

अखाड़ा परिषद का बाबाओं के फर्जी वाले निर्णय को हिन्दू महासभा ने कर दिया निरस्त

सितम्बर 17, 2017
🚩दिल्ली : रविवार को #जंतर-मंतर पर #हिन्दू महासभा एवं अन्य #हिन्दू संगठनों ने अखाड़ा परिषद द्वारा जारी की गई 14 बाबाओ की फर्जी लिस्ट वाली सूची के खिलाफ #विशाल #धरना दिया ।
🚩इस धरने में कई सुप्रतिष्ठित हस्तियां, कई उच्चकोटि के साधु-संत एवं सामाजिक कार्यकर्ता पहुँचे । सभी ने अखाड़ा परिषद द्वारा जारी की गई फर्जी बाबाओं की लिस्ट पर भारी रोष जताया व विरोध प्रगट किया ।
🚩जंतर-मंतर पर हिन्दू संत #आशारामजी बापू के #समर्थक भी हजारों की तादाद में दिखे एवं अन्य संत प्रेमी जनता भी पहुँची ।
Akhara Parishad’s decision on Baba’s fake remarks was canceled by Hindu Mahasabha
🚩हिन्दू महासभा के #अध्यक्ष #श्री चक्रपाणी महाराज ने विशाल सभा को संबोधित करते हुए कहा कि अखाड़ा परिषद ने जो लिस्ट जारी की है,उसके खिलाफ संत-महासभा की तरफ से प्रस्तुति है कि बिना भेद-भाव के परमात्मा को साक्षी मानकर “संत समाज” ने ये निर्णय लिया है अखिल अखाड़ा परिषद क्रमांक 10-9-2017 को अध्यक्ष नरेन्द्र गिरी की अध्यक्षता में महंत हरिगिरी के प्रत्यक्षता में मुख्य फर्जी संतों की सूची पर निर्णय लिया गया है ।  उपयुक्त सूची #दुर्भावना व अपनी #नाकामियों को छुपाने के लिए अखाड़ा परिषद के द्वारा जारी की गई थी ।
🚩जो धर्म सम्मुख व संविधान ही नहीं है इससे न केवल हिंदुत्व को नुकसान होगा  बल्कि धर्म परिवर्तन को बल मिलेगा । अतः दिनांक 10-9-2017 को #फर्जी सूची को #संत-महासभा द्वारा #निरस्त किया जा रहा है !! चट्टान प्रभाव से निरस्त किया जाता है !!
🚩और सुझाव दिया जाता है कि जिसके “घर शीशे के होते वो पत्थर वालों को ईटा नहीं फेंकते” अतः मुसीबत आनेवाली है । आज अगर संत आशारामजी बापूज फंस गए, राम-रहीम जी फंस गए तो ये नहीं की अखाड़े वाले नहीं फंसोगे,अतः मुसीबत आनेवाली है ।
🚩“वतन की फिक्र कर नादां मुसीबत आने वाली है,
तेरी बर्बादियों के चर्चे है आसमानों में,
फनाह हो जाओगे अगर न सम्भले अखाड़े वालों
तेरी दास्ता तक न होगी दास्तानों में ।”
🚩अखाड़ा परिषद कथित फर्जी संतों की सूची खारिज हो गई तो खारिज हो ही गई ।
🚩और बता देना चाहता हूँ अंतिम पांचवा :-
ऐसा नही कि यह मंच पर संत-समाज ने बोल दिया कि खारिज हो । अगर दोबारा फर्जी संतों का शब्द प्रयोग किया तो याद रखना संत महासभा कानूनी तरीके से खींच कर लाएगी। इसलिए हम सिर्फ खारिज कर रहें है और कह रहे हैं रुक जाइये ।
🚩स्वामी चक्रपाणी महाराज ने और संतो ने मिलकर फर्जी बाबाओ की सूची को निरस्त करने के बाद #राष्ट्रपति और #मुख्यमंत्री योगी #आदित्यनाथ जी को #पत्र भी #भेजा है ।
🚩आपको बता दें कि उस मंच पर अनेक संत महात्माओं ने हिन्दू संत #आशारामजी बापू के समाज एवं #हिन्दू संस्कृति के #सेवाकार्यो की #भूरी-भूरी #प्रशंसा की और कहा कि बापू को #षडयंत्र के तहत #फंसाया गया है और #राजनीतिक दबाब के कारण उनको जमानत भी नही मिल रही है जबकि उनको मेडकिल में क्लीन चिट मिल गई है और अभीतक एक भी आरोप सिद्ध नही हुआ है ।
🚩Official Azaad Bharat Links:👇🏻
🔺Youtube : https://goo.gl/XU8FPk
🔺 Twitter : https://goo.gl/kfprSt
🔺 Instagram : https://goo.gl/JyyHmf
🔺Google+ : https://goo.gl/Nqo5IX
🔺 Word Press : https://goo.gl/ayGpTG
🔺Pinterest : https://goo.gl/o4z4BJ
3 Attachments
all saints have been condemned, they worship their statue later

इतिहास देख लो वर्तमान में सभी संतों की निंदा हुई है, बाद में उनकी मूर्ति को पूजते हैं

इतिहास देख लो वर्तमान में सभी संतों की निंदा हुई है, बाद में उनकी मूर्ति को पूजते हैं
भारत देश ऋषि-मुनियों, साधु-संतों का देश रहा है, उनके ही मार्गदर्शन में राजसत्ता चलती थी, भगवान श्रीकृष्ण भी संदीपनी ऋषि के पास जाते थे, भगवान श्री राम भी उनके गुरु वशिष्ठ के पास से सलाह सूचन लेने के बाद ही कुछ निर्यण लेते थे, वर्तमान में भी देश सच्चे साधु-संतों के कारण ही देश में सुख-शांति है और देश की संस्कृति जीवित है।
conspiracy against saints

 

वर्तमान में विदेशी फंड से चलने वाली मीडिया द्वारा एक कुचक्र चल रहा है जिसमें सभी हिन्दू साधु-संतों को बदनाम किया जा रहा है, इसमें अच्छे साधु-संतों को भी बदनाम किया जा रहा है और भारत की भोली जनता भी उन्हीं को सच मानकर अपने ही धर्मगुरुओं की निंदा करने लगी है और बोलते हैं कि पहले जैसे साधु-संत नहीं हैं पर अगर वे भगवान श्री राम के गुरु की योगवासिष्ठ महारामायण पढ़े तो उसमें लिखा है कि हे रामजी मैं बाजार से गुजरता हूँ तो मूर्ख लोग मेरे लिए न जाने क्या-क्या बोलते हैं पर मेरा दयालु स्वभाव है मैं सबको क्षमा कर देता हूँ ।
त्रेतायुग में भी भगवान रामजी जिनको पूजते थे उनको भी जनता ने नही छोड़ा तो आज तो कलयुग है लोगों की मति-गति छोटी है इसलिए साधु-संतों की निंदा करेंगे और उनके भक्तों को अंधभक्त ही बोलेंगे ।
आइये आपको बताते हैं पहले जो महापुरुष हो गए उनकी कैसी निंदा हुई और बाद में कैसे लोग पूजते गए..
स्वामी विवेकानंदजी
अत्याचार : ईसाई मिशनरियों तथा उनकी कठपुतली बने प्रताप मजूमदार द्वारा दुश्चरित्रता, स्त्री-लम्पटता,  ठगी, जालसाजी, धोखेबाजी आदि आरोप लगाकर अखबारों आदि के द्वारा बहुत बदनामी की गयी ।
परिणाम : काफी समय तक उनकी जो निंदाएँ चल रही थी उनका प्रतिकार उनके अनुयायियों ने भारत में सार्वजनिक सभाएँ आयोजित करके किया और अंत में स्वामी विवेकानंदजी के पक्ष की ही विजय हुई ।
(संदर्भ : युगनायक विवेकानंद, लेखक – स्वामी गम्भीरानंद, पृष्ठ 109, 112, 121, 122)
महात्मा बुद्ध
अत्याचार : सुंदरी नामक बौद्ध भिक्षुणी के साथ अवैध संबंध एवं उसकी हत्या के आरोप लगाये गये और सर्वत्र घोर दुष्प्रचार हुआ ।
परिणाम : उनके शिष्यों ने सुप्रचार किया । कुछ समय बाद महात्मा बुद्ध निर्दोष साबित हुए । लोग आज भी उनका आदर-सम्मान करते हैं ।
(संदर्भ : लोक कल्याण के व्रती महात्मा बुद्ध, लेखक – पं. श्रीराम शर्मा आचार्य, पृष्ठ 25)
संत कबीरजी
अत्याचार : अधर्मी, शराबी, वेश्यागामी आदि कई घृणित आरोप लगाये गये और बादशाह सिकंदर के आदेश से कबीरजी को गिरफ्तार किया गया और कई प्रकार से सताया गया ।
परिणाम : अंत में बादशाह ने माफी माँगी और शिष्य बन गया ।
(संदर्भ : कबीर दर्शन, लेखक – डॉ. किशोरदास स्वामी, पृष्ठ 92 से 96)
संत नरसिंह मेहताजी
अत्याचार : जादू के बल पर स्त्रियों को आकर्षित कर उनके साथ स्वेच्छा से विहार करने के आरोप लगाकर खूब बदनाम व प्रताड़ित किया गया ।
परिणाम : नरसिंह मेहताजी निर्दोष साबित हुए । आज भी लाखों-करोड़ों लोग उनके भजन गाकर पवित्र हो रहे हैं ।    (संदर्भ : भक्त नरसिंह मेहता, पृष्ठ 129, प्रकाशन – गीताप्रेस)
स्वामी रामतीर्थ
अत्याचार : पादरियों और मिशनरियों ने लड़कियों को भेजकर दुश्चरित्र सिद्ध करने के षड्यंत्र रचे और खूब बदनामी की । जान से मार डालने की धमकी एवं अन्य कई प्रताड़नाएँ दी गयी।
परिणाम : स्वामी रामतीर्थजी के सामने बड़ी-बड़ी मिशनरी निरुत्तर हो गई। उनके द्वारा प्रचारित वैदिक संस्कृति के ज्ञान-प्रकाश से अनेकों का जीवन आलोकित हुआ ।
(संदर्भ : राम जीवन चित्रावली,  रामतीर्थ प्रतिष्ठान, पृष्ठ 67 से 72)
संत ज्ञानेश्वर महाराज
अत्याचार : कई वर्षों तक समाज से बहिष्कृत करके बहुत अपमान व निंदा की गयी । इनके माता-पिता को 22 वर्षों तक कभी तृण-पत्ते खाकर और कभी केवल जल या वायु पीके जीवन-निर्वाह करना पड़ा । ऐसी यातनाएँ ज्ञानेश्वरजी को भी सहनी पड़ी ।
परिणाम : लाखों-करोड़ों लोग आज भी संत ज्ञानेश्वर जी द्वारा रचित ‘ज्ञानेश्वरी गीता’ को श्रद्धा से पढ़-सुन के अपने हृदय में ज्ञान-भक्ति की ज्योति जगाते हैं और उनका आदर-पूजन करते हैं ।
(संदर्भ : श्री ज्ञानेश्वर चरित्र और ग्रंथ विवेचन, लेखक – ल.रा. पांगारकर, पृष्ठ 32, 33, 38)
भक्तिमती मीराबाई
अत्याचार : चरित्रभ्रष्टता का आरोप लगाया गया । कभी नाग भेजकर तो कभी विष पिला के, कभी भूखे शेर के सामने भेजकर तो कभी तलवार चला के जान से मारने के दुष्प्रयास हुए ।
परिणाम : जान से मारने के सभी दुष्प्रयास विफल हुए । मीराबाई के प्रति लोगों की सहानुभूति बढ़ती गयी । उनके गाये पदोें को पढ़-सुनकर एवं गा के आज भी लोगों के विकार मिटते हैं, भक्ति बढ़ती है ।
सनातन धर्म के संतों ने जब-जब व्यापकरूप से समाज को जगाने का प्रयास किया है, तब-तब उनको विधर्मी ताकतों के द्वारा बदनाम करने के लिए षड्यंत्र किये गये हैं ।
जिनमें वे हिन्दू संतों को भी मोहरा बनाकर हिन्दू संतों के खिलाफ दुष्प्रचार करने में सफल हो जाते हैं ।
यह हिन्दुओं की दुर्बलता है कि वे विधर्मियों के चक्कर में आकर अपने ही संतों की निंदा सुनकर विधर्मियों की हाँ में हाँ करने लग जाते हैं और उनकी हिन्दू धर्म को नष्ट करने की गहरी साजिश को समझ नहीं पाते । इसे हिन्दुओं का भोलापन भी कह सकते हैं ।
अतः हिन्दू सावधान रहें ।
rajiv dixit, asaram bapu,

धर्मसत्ता व राजसत्ता में से बड़ा कौन? आसारामजी बापू सच्चे या झूठे संत ? : राजीव दीक्षित

🚩वर्तमान में #हिन्दू #धर्मगुरुओं पर जो #बहस चल रही है उसपर पहले से ही देशभक्त स्वर्गीय श्री राजीव दीक्षित ने बता दिया था कि धर्मसत्ता और राजसत्ता क्या होती है?
और कौन कौन संत धर्मसत्ता के प्रतीक हैं ।
🚩आइये  जानते हैं कि क्या कहा श्री राजीव दीक्षित जी ने…

rajiv dixit

 

🚩साधु समाज संत समाज जब भी निकला है, समाज उसके पीछे चला है ।  हमारे यहाँ की #राजनैतिक व्यवस्था #हमेशा #संत समाज के #नीचे रही है संत समाज ऊपर रहा है, राजनैतिक व्यवस्था नीचे रही है । संत समाज के आशीर्वाद से हमारे यहाँ नेता काम कर रहे हैं । आप जानते हैं कि भारत के महान राजा #चंद्रगुप्त, #विक्रमादित्य, #हर्षवर्धन , #सम्राट अशोक ये जितने भी बड़े-बड़े महान चक्रवर्ती सम्राट हुए इन सबका नियम था कि दरबार में कोई साधु आ गया तो राजा अपना सिंहासन छोड़ता था और साधु को अपने सिंहासन पर बिठाता था मतलब साधु के लिए सन्यासी के लिए सिंहासन खाली है।। राजा उनके चरणों में बैठता था इसका मतलब ये है कि साधु समाज #संत समाज धर्म समाज हमारी #राज्यसत्ता को #निर्देशित करती थी । तो जब तक भारत की धर्म सत्ता राज्य सत्ता को निर्देशित करती थी तब तक भारत सोने की चिड़िया था ।
🚩#चंद्रगुप्त विक्रमादित्य के समय में देख लो #भारत #सोने की #चिड़िया था, समुद्रगुप्त का समय देख लो भारत सोने की चिड़िया था, #हर्षवर्धन का समय देख लो भारत सोने की चिड़िया था, #सम्राट अशोक का समय देख लो भारत सोने की चिड़िया था…
🚩 जब-जब #धर्म सत्ता #ऊपर रही है और #राज्य सत्ता नीचे रही तब-तब #भारत #सोने की #चिड़िया रहा लेकिन जब विदेशियों का हमला हुआ, #विदेशियों ने यहाँ आकर #साम्राज्य #स्थापित कर लिया तब #धर्म सत्ता नीचे चली गई राज्य सत्ता ऊपर आ गई । तब से भारत नीचे #रसातल में गिरता ही चला जा रहा है !!
🚩गिरता ही जा रहा है !!
🚩गिरता ही जा रहा है !!
🚩और इतना ही गिरता जा रहा है कि लोगों को भरोसा ही उठ गया है कि ये देश उठ सकता है !! #गरीबी बढ़ी, #व्यभिचार बढा, #पापाचार बड़ा , #अत्याचार बढ़ा, #भ्रष्टाचार #बढ़ा। जब से #धर्म सत्ता नीचे हो गई राज्य सत्ता ऊपर आ गई ।
🚩अब फिर से धर्म सत्ता ऊपर आ रही है #स्वामी #सत्यमित्रानंद गिरिजी धर्म सत्ता के प्रतीक हैं। महा-मंडलेश्वर जितने भी हैं धर्म सत्ता के #प्रतीक हैं। हमारे देश के महान #मोरारी बापू धर्म सत्ता के प्रतीक हैं। #पूज्य #आसारामजी बापू #धर्म सत्ता के #प्रतीक हैं । ये बड़े #साधु-महापुरुष-सन्यासी #धर्म सत्ता के #प्रतीक इक्कठे हो रहे हैं … !!
🚩अंग्रेजो के जमाने के बनाये कानूनों को खत्म करने की बात करते हो । ऐसे 15-20 मुद्दे तय हुए हैं उसके आधार पर आप वोट करिये ये बात कहने के लिए मैं जाने वाला हूँ और ऐसे दूसरे भी साधु-संत जाने वाले हैं ।
🚩आपको सुनकर हैरानी होगी हमारे देश के महा-मंडलेश्वर बहुत पूजनीय है । सत्य मित्रानंदजी गिरी वो परसो हमारे साथ थे हरिद्वार में । उनका पूरा आशीर्वाद है कि ये काम के लिए आप निकलते हो तो मैं भी आपके साथ हूँ,मोरारी बापूजी का पूरा आशीर्वाद है, 15 बड़े साधु-संत जिनके 1-1 कोटी से ज्यादा फॉलोवर हैं ऐसे 15 साधु-संत 600 जिलों का प्रभाव शुरू करने जा रहे हैं। अगले 2 साल में और ये प्रयास इसी बात के लिए है कि हमको गेट करार नहीं चाहिए, #मल्टी नेशनल #नहीं #चाहिए, डब्लू DO नहीं चाहिए, #विदेशीकरण जो हो रहा है इस देश में वो #नहीं चाहिए, कर्जबाजारी जो बढ़ रही है देश की ओर समाज की ओर वो नहीं चाहिए ।

🚩जब साधु-संत निकल रहे हैं तो समाज में तो आप जान लीजिए परिवर्तन तो होगा ही… इस देश में !! क्योंकि जब भी भारत का सन्यासी या साधु निकला है तो उसने देश और समाज को बदला है ये हमारा हजारों साल का इतिहास है आप कभी भी उठा कर देख सकते हैं ।
🚩आज #विदेशी #ताकतों द्वारा केवल #हिन्दू साधु-संतों को ही #बदनाम किया जा रहा है #क्योंकि #भारत में उनके #विदेशी #प्रोडक्ट #नही बिकते हैं, #धर्मान्तरण #नहीं हो #पाता है इसलिए #विदेशी #फंडिग #मीडिया से #बदनाम करवाते हैं ।
🚩हिन्दू #धर्मगुरु #आसारामजी बापू के बारे में तो राजीव दीक्षित पहले ही धर्म सत्ता के प्रतीक बता चुके हैं, लेकिन मीडिया की बातों में आकर कुछ हिन्दू ही उनको गलत बोल रहे हैं क्योंकि उनकी वास्तविकता पता नही है, वे 4 साल से जेल में बंद हैं लेकिन अभीतक एक भी #आरोप सिद्ध नही हुआ है और मेडिकल में क्लीन चिट भी मिल गई है, #डॉ. सुब्रमण्यम स्वामी भी उनका केस लड़ चुके हैं पर आखिर उन्होंने बताया कि लाखों हिन्दुओं की घर वापसी करवाने के कारण #ईसाई मिशनरियां पीछे पड़ी है उनको बदनाम करवाने के और मुख्यमंत्री वसुंधरा भी डरपोक है इसलिए उनको जमानत नही मिल रही है।
🚩Official Azaad Bharat Links:👇🏻
🔺Youtube : https://goo.gl/XU8FPk
🔺 Twitter : https://goo.gl/kfprSt
🔺 Instagram : https://goo.gl/JyyHmf
🔺Google+ : https://goo.gl/Nqo5IX
🔺 Word Press : https://goo.gl/ayGpTG
🔺Pinterest : https://goo.gl/o4z4BJ