Busted conspiracy: ABP News puts pressure on girl to speak against saints

षडयंत्र का पर्दाफाश : ABP न्यूज ने लड़की पर दबाब डाला संतों के खिलाफ बोलने के लिए

अक्टूबर 14, 2017

🚩मुम्बई : इलेक्ट्रॉनिक न्यूज चैनल #ABP न्यूज का चौंकाने वाला खुलासा सामने आया है, ABP न्यूज कैसे #षड्यंत्र करता है और कैसे #झूठी #कहानियां #बनाकर #साजिश रचता है वो वहाँ जॉब करने वाली खुशबू नाम की लड़की ने उनका #पर्दाफाश किया ।
🚩कुछ दिन पहले कांदिवली, मुंम्बई के नम्र मुनि महाराज के खिलाफ ABP न्यूज में आकर एक लड़की यौन शोषण का आरोप लगाया, और कहा कि नम्र मुनि के आश्रम में लड़कियों का यौन शोषण होता है और नम्र मुनि के लेपटॉप में कई लड़कियों के अश्लील फोटो भी मिले हैं । आश्रम में फैशन डिजाइन का खेल खेला जाता है, मॉडलिंग द्वारा अश्लीलता बढाई जाती है ।
🚩लडक़ी द्वारा आरोप लगे, टीवी चैनलों में खूब दिखाया गया लेकिन जैसे ही लड़की वहाँ से भागकर नम्र मुनि के आश्रम में आई और जो सच्चाई बताई वो चौकाने वाली है,मीडिया के झूठ का पोल खुल गया ।
🚩30 वर्षीय लड़की खुशबू ने बताया कि मैं ABP न्यूज में जॉब करती थी और नम्र मुनि से जुड़ी थी । ABP न्यूज की बड़ी एडिटर शिला रावल और हार्दिक हुंडिया था, मैं नम्र मुनि से दीक्षा लेना चाहती थी पर नम्र मुनि ने मना कर दिया जिससे मैंने उनका आश्रम छोड़ दिया, वो शिला रावल और हार्दिक हुंडिया को पता चल गया और मुझे बोला गया कि तू नम्र मुनि के खिलाफ ऐसा ऐसा बोल तो हम तुझे बड़ा बना देंगे और तेरा नाम होगा, वहाँ जॉब कर रही खुशबू ने दबाव में आकर बोल दिया कि मेरे साथ कई बार नम्र मुनि ने यौन शोषण किया और कई लड़कियों का हुआ है ।

🚩आरोप लगाने वाली खुशबू लड़की ने बताया कि मेरे को शिला रावल और हार्दिक हुंडिया ने बताया कि जैसे राम रहीम को एक्सपोज किया है वैसे ही नम्र मुनि का करना है, हार्दिक ने आगे ये भी बताया कि और भी आगे संतो के खिलाफ ऐसा दिखाना है ।
🚩खुशबू ने बताया कि मेरे पर दबाव डाला और मेरे से जबरदस्ती ईमेल करवाये कि लिखो कि मेरे साथ नम्र मुनि ने यौन शोषण किया है और कैमरे के सामने ये सब बोलते समय कैसी एक्टिन करना है वो भी सिखाया गया था । खुशबू को एक स्क्रिप्ट भी दी गई थी जिसमें कैसे नम्र मुनि के खिलाफ केस दर्ज करना है और मीडिया के सामने नम्र मुनि के खिलाफ कैसे बोलना है उसकी जानकारी थी ।
🚩30 वर्षीय खुशबू का स्पष्ट कहना है कि मेरे पर ABP न्यूज एडिटर महिला शिला रावल और हार्दिक हुंडिया ने दबाव डाला था, मैने भी दबाव में आकर ये सब बोल दिया ।
आगे कहा कि और भी संतों को बदनाम करवाने की साजिश रची जा रही है ।
🚩अब आप समझ गये होंगे कि हिन्दू साधु-संतों के खिलाफ कितना बड़ा षडयंत्र चल रहा है, उनको बदनाम करने का, हिन्दू धर्म को खत्म करने की साजिश चल रही है।
🚩आपको बता दें कि हिन्दू संत आशारामजी बापू को भी बदनाम करने के लिए विदेश से भारी फंडिग आती है, विनोद गुप्ता उर्फ भोलानंद ने मीडिया के सामने आकर बताया था।

🚩भोलानंद ने बताया कि मुम्बई में मेरे योगा सेंटर चलते थे, उसमे इंडिया न्यूज का मुख्य मनीष अवस्थी, इंडिया टीवी का वसीम अख्तर, न्यूज-24 और ‘एबीपी न्यूज वाले आकर योगा करने वाली बहनों को बोलते थे कि आप संत आसारामजी बापू के खिलाफ बोलोगेे तो हम आपको करोड़पति बना देंगे, मेरे पास भी संत आशारामजी बापू के खिलाफ स्क्रिप्ट लेकर आये थे उसमे लिखा था कि बापू आसारामजी ने 15-16 लड़कियों का बलात्कार किया, जमीन हड़प ली आदि-आदि लिखा था ।
🚩भोलानंद को बोला गया कि अगर मीडिया में आकर बोलोगे तो हम आपको फ्लेट दिलवा देंगे और 5-6 करोड़ रूपये देंगे । भोलानंद ने बताया कि इंडिया न्यूज का दीपक चौरसिया भी मुझे फोन करके बताता था कि बापू आसारामजी के खिलाफ क्या-क्या बोलना है ।
🚩भारतीय मीडिया में ईसाई मिशनरियों द्वारा वेटिकन सिटी से और मुस्लिम देशों से भारतीय संस्कृति को खत्म करने के लिए और संस्कृति के आधार स्तंभ साधु-संतों को बदनाम करने के लिए भारी फंडिग आती है । क्योंकि साधु-संत धर्मान्तरण में भारी रुकावट डालते हैं ।
🚩सवाल उठता है कि 10-20 हजार की नौकरी करने वाले पत्रकार करोड़पति कैसे बन जाते है? उनकी संपत्ति की जांच होनी चाहिए और संतो के खिलाफ षड्यंत्र रचने वाले मीडिया हाउस के मालिकों एवं पत्रकारों को जेल भेज देना चाहिए ।
🚩Official Azaad Bharat Links:👇🏻
🔺Youtube : https://goo.gl/XU8FPk
🔺 Twitter : https://goo.gl/kfprSt
🔺 Instagram : https://goo.gl/JyyHmf
🔺Google+ : https://goo.gl/Nqo5IX
🔺 Word Press : https://goo.gl/ayGpTG
🔺Pinterest : https://goo.gl/o4z4BJ
Advertisements
Poet written by poet compromising the history of Padmavati

पद्मावती के इतिहास पर छेड़छाड़ करके फिल्म बनाने पर कवि ने लिखी कविता

अक्टूबर 12, 2017
🚩भारत की महान नारी रानी पद्मावती पर एक फिल्म बनी है, रानी पद्मावती के इतिहास को गलत बताकर फिल्म बनाई गई है, उस फिल्म का ट्रेलर लॉंच हो चुका है, यह हिन्दू समाज के मुँह पर एक जोरदार तमाचा है । इस लड़ाई को केवल राजपूत समाज की लड़ाई ना बनने दे, ये पूरे हिन्दू समाज की लड़ाई है । महापुरुष और वीरांगनायें किसी एक जाति की नही अपितु पूरे धर्म की विरासत होते हैं ।
🚩कवि अमित शर्मा की रानी पद्मावती के त्याग का अल्प इतिहास बताते हुए फिल्म का डायरेक्टर संजय लीला भंसाली को चेतावनी भरी कविता लिखी है….
🚩जिसके शब्द इस प्रकार हैं :
🚩बॉलीवुड में भांड भरे है, नीयत सबकी काली है…
इतिहासों को बदल रहे, संजय लीला भंसाली है…
🚩चालीस युद्ध जितने वाले को ना वीर बताया था…
संजय तुमने बाजीराव को बस आशिक दर्शाया था…
🚩सहनशीलता की संजय हर बात पुरानी छोड़ चुके…
देश धर्म की खातिर हम कितनी मस्तानी छोड़ चुके…
🚩अपराध जघन्य है तेरा, दोषी बॉलीवुड सारा है…
इसलिए ‘करणी सेना’ ने सेट पर जाकर मारा है…
🚩संजय तुमको मर्द मानता, जो अजमेर भी जाते तुम…
दरगाह वाले हाजी का भी नरसंहार दिखाते तुम…
🚩सच्चा कलमकार हूँ संजय, दर्पण तुम्हे दिखता हूँ…
जौहर पदमा रानी का, तुमको आज बताता हूँ…
🚩सुन्दर रूप देख रानी का बैर लिया था खिलजी ने…
चित्तौड़ दुर्ग का कोना कोना घेर लिया था खिलजी ने…
🚩मांस नोचते गिद्धों से, लड़ते वो शाकाहारी थे…
मुट्ठी भर थे राजपूत, लेकिन मुगलों पर भारी थे…
🚩राजपूतों की देख वीरता, खिलजी उस दिन काँप गया…
लड़कर जीत नहीं सकता वो ये सच्चाई भांप गया…
🚩राजा रतन सिंह से बोला, राजा इतना काम करो…
हिंसा में नुकसान सभी का अभी युद्ध विराम करो…
🚩पैगाम हमारा जाकर रानी पद्मावती को बतला दो…
चेहरा विश्व सुंदरी का बस दर्पण में ही दिखला दो…
🚩राजा ने रानी से बोला रानी मान गयी थी जी…
चित्तौड़ नहीं ढहने दूंगी ये रानी ठान गयी थी जी…
🚩अगले दिन चित्तौड़ में खिलजी सेनापति के संग आया…
समकक्ष रूप चंद्रमा सा पद्मावती ने दिखलाया…
🚩रूप देखकर रानी का खिलजी घायल सा लगता था…
दुष्ट दरिंदा पापी वो पागल,पागल सा लगता था…
🚩रतन सिंह थे भोले राजा उस खिलजी से छले गए…
कैद किया खिलजी ने उनको जेलखाने में चले गए…
🚩खिलजी ने सन्देश दिया चित्तौड़ की शान बक्श दूंगा…
मेरी रानी बन जाओ, राजा की जान बक्श दूंगा…
🚩रानी ने सन्देश लिखा, मैं तन मन अर्पण करती हूँ…
संग में नौ सौ दासी है और स्वयं समर्पण करती हूँ…
🚩सभी पालकी में रानी ने बस सेना ही बिठाई थी…
सारी पालकी उस दुर्गा ने खिलजी को भिजवाई थी…
🚩सेना भेजकर रानी ने जय जय श्री राम बोल दिया…
अग्नि कुंड तैयार किया था और साका भी खोल दिया…
🚩मिली सूचना सारे सैनिक, मौत के घाट उतार दिए…
और दुष्ट खिलजी ने राजा रतन सिंह भी मार दिए…
🚩मानो अग्नि कुंड की अग्नि उस दिन पानी पानी थी…
सोलह हजार नारियों के संग जलती पदमारानी थी…
🚩सच्चाई को दिखलाओ, हम सभी सत्य स्वीकारेंगे…
झूठ दिखाओगे संजय, तो मुम्बई आकर मरेंगे…
-कवि अमित शर्मा (गांव सैनी- ग्रेटर नोएडा)
🚩कवि ने ये भी प्रार्थना की है कि सभी हिन्दू साथ दे और #पद्मावती #फिल्म के रिलीज पर #रोक #लगाए । देश भर में अपनी कविता को एक बार फिर शेयर कर रहा हूँ,  लिखा है कि इतना शेयर करो कि आपका हर शेयर संजय लीला भंसाली के मुँह पर तमाचे की तरह लगे ।
🚩आपको बता दें कि #हिंदूधर्म को #नष्ट करने के लिये #बॉलीवुड में अनेकों #प्रयास किये जा रहे हैं और जब विषय हमारी श्रद्धाओं का होता है तो बॉलीवुड,मीडिया अक्सर उसे गलत ढंग से दर्शाता है जैसे मूवी में डाकूओं और विलेन  का तिलक लगाना, मूर्ति पूजा को गलत ठहराना, गंदे-गंदे एक्शन और गानों में राम नाम और श्रीकृष्ण नाम को रटना, साधुओं को पाखंडी साबित करने का प्रयास करना, धार्मिक भजनों पर महिलाओं को नग्न करके नचाना आदि…!!!
🚩आज के #युवावर्ग में अपनी हिन्दू संस्कृति के प्रति कूट कूट कर नकारात्मकता भरी जा रही है और नशे और #चरित्रहीनता का #शिकार बनाया जा रहा है।
🚩हिन्दुस्तानी संगठित होकर #चरित्रहीनता की खाई में गिराने वाले #बॉलीवुड और #मीडिया को #मुँहतोड़ #जबाब दें,और अपने #देश को #विश्वगुरु के पद तक #पहुँचाने में #सहयोगी हो।
🚩Official Azaad Bharat Links:👇🏻
🔺Youtube : https://goo.gl/XU8FPk
🔺 Twitter : https://goo.gl/kfprSt
🔺 Instagram : https://goo.gl/JyyHmf
🔺Google+ : https://goo.gl/Nqo5IX
🔺 Word Press : https://goo.gl/ayGpTG
🔺Pinterest : https://goo.gl/o4z4BJ
Attachments area
शिव सेना हिन्द के अध्यक्ष निशांत शर्मा ने बताया क्यो भेजा है बापू आसारामजी को जेल

शिव सेना हिन्द के अध्यक्ष निशांत शर्मा ने बताया क्यो भेजा है बापू आसारामजी को जेल

अक्टूबर 10, 2017
🚩चंडीगढ़ : शिव सेना हिन्द के राष्ट्रीय अध्यक्ष #निशांत शर्मा जी ने अपनी फेसबुक पर #लाइव करके बताया कि #हिन्दू धर्मगुरु #आसारामजी बापू को #क्यों #जेल #भेजा गया..??
उसके पीछे कौन है जो बाहर नही आने देना चाहते..??
🚩आईये जानते है क्या कहा निशांत जी ने :
🚩दोस्तो, मैं निशांत शर्मा,शिव सेना हिन्द का राष्ट्रीय अध्यक्ष, अखाड़ा परिषद द्वारा संत शिरोमणि आसारामजी बापू को जो एक सूची दिखाई है अखाड़ा परिषद ने, कि उनको संत समाज से निष्कासित करते हैं वो एक संत ही नहीं हैं, तो मैं इस विषय पर कुछ बताना चाहता हूँ,कुछ डाटा मैंने इक्कट्ठा किया है ।
Shiv Sena Hind President Nishant Sharma told that why Bapu Asaramji was sent to jail
🚩सबसे पहली बात मैंने आसारामजी बापू का कोई नाम नहीं ले रखा है। मेरा एक ही काम है सनातन धर्म की रक्षा के लिए जो भी व्यक्ति काम करे उसके साथ खड़े रहना ।
🚩दोस्तो, अगर हम बात करें उनके द्वारा किये हुए कार्यों की तो 3-4 लाख लोगों में संतजी (संत आसाराम बापू) ने आदिवासी क्षेत्रों में योजना चलाई है “भजन करो, भोजन करो और रोजी पाओ” जिसमें सारा दिन आप भजन करो भोजन करो और शाम को 60 रुपया लो,ताकि जो #ईसाई मिशनरियाँ हैं वो आपका #धर्मान्तरण न करा सके । क्योंकि झारखंड छत्तीसगढ़ के जो इलाके थे, लाखों लोग #धर्मान्तरित हो चुके थे । उन्होंने #बापूजी की #प्रेरणा से घर #वापसी की । जिसे पॉप सहित कई ईसाई मिशनरियों को बहुत ज्यादा मुसीबत आ गई थी । वैसे भी सदियों से चलता आ रहा है कि हमारे जो ऋषि-मुनि संत जो धर्म की रक्षा के लिए हमारे भारत वर्ष की रक्षा के लिए कार्य करते हैं उनके ऊपर मुसीबतें आती ही आती हैं । मैं पूछना चाहता हूँ कि जिन्होंने कहा है ये संत नहीं हैं क्या उन्होंने उन्हें संत की उपाधि दी थी?
🚩हम लोगों को आपस में लड़ाकर ये ईसाई मिशनरियां ताकत को इक्कट्ठा कर रही है ।
🚩दोस्तो, 14 फरवरी को जहाँ लड़के-लड़कियां पश्चिमी सभ्यता के आधार पर अश्लीलता की कगार पर उतर रहे थे तो संतजी ने “#मातृ-पितृ पूजन दिन” बनाया । जो कि #14 फरवरी के दिन करोड़ो लोग अपने #माता-पिता की #पूजा करते हैं, उनके नेतृत्व में कोटि #गौशालाएं चल रही हैं, कितने ही #गुरुकुल चल रहे हैं, जिसमें ऐसे विद्यार्थी पढ़ रहे हैं जो किसी कारणवश पैसों के कारण या कई जगह शिक्षा नहीं ले पाते वो गुरुकुल में निःशुल्क पढ़ रहे हैं ।
🚩सैंकड़ो #हजारों #कन्याओं के #रोजगार के लिए #सिलाई गुणाई अनेक कॉर्सेस शुरू करवाए । जगह-जगह जब किसी संत के ऊपर कोई Allegation लगा तब उन्होंने आवाज उठाई, मैं कहता हूँ ऐसा कोई भी कार्य नहीं है जो उन्होंने सनातन धर्म के विरुद्ध किया है । जो #मामला उनके ऊपर दर्ज हुआ है वो सारा का सारा उस समय की #सरकार ने #ईसाई #मिशनरियों के #इशारे पर #किया है ।
🚩और रही बात मीडिया की, मैं बोलना नहीं चाहता परन्तु RTI से ये बात पता चला है कि उनके खिलाफ ज्यादातर जो न्यूज चली है उनका पैसा ईसाई मिशनरियों ने दिया है ।
🚩आज बड़े दुःख की बात है कि संत आसारामजी बापू जैसे संत इस (81वर्ष) उम्र में जेल में सजा काट रहें है । वो माल्या जैसे जिन पर हजारों लोगों के ऑन रेकॉर्ड है उनको विदेशो में बुलाया जाता है । बापूजी पर अभी तक जितने केस हैं ज्यादातर केसों में संतजी सबमें बरी हुए है ।
🚩जेल में मैं भी रहकर आया हूँ । पता कीजिए जेल में रहना कितना मुश्किल है और वो भी नाजायज केसों में ।
🚩मैं डेटा के आधार पर बोलता हूँ जो मैंने इक्कठा किया है :-
🚩1). जो #अनाथालयों में सेवाकार्य बापूजी ने बाल संस्कार केंद्र खोले #17000 से अधिक #बाल संस्कार केंद्रों में विद्यार्थी पढ़ रहे हैं ।
🚩2). #युवाधन सुरक्षा अभियान द्वारा विद्यार्थियों,
 युवाओं में लाखो की संख्या में #दिव्य-प्रेरणा प्रकाश पुस्तकें बाँटी गई । साथ ही हजारों युवाओं के ऐसे कार्य आयोजित कराए गए जिससे उन्हें रोजगार मिले ।
🚩3). #युवासेवा संघ इसके द्वारा भारत भर में संस्कार सभा चलाई गई जिसमें हजारों की संख्या में युवा संगठन से जुड़कर अपना #सर्वोदय #विकास कर रहे हैं ।
🚩4). आश्रम द्वारा नौ बड़ी गौशालाओं का संचालन किया जा रहा है । त्रेतालिस (43) छोटी #गौशालाओं का संचालन किया जा रहा है ।
🚩5). कत्लखाने ले जानेवाली हजारों गौमाताओं की सेवा की जा रही है । मध्यप्रदेश, राजस्थान, गुजरात, महाराष्ट्र में गौशालाएं चल रही है ।
🚩6). #छाछ वितरण और #जल प्याऊ सेवा भी इन्होंने की ।
🚩7).बस स्टैंड, रेलवे स्टेशन या अन्य स्थलों में ठंडे #पानी की हजारों जगह भी इनकी #सेवा चल रही है ।
🚩8). जो इनके आश्रमों द्वारा सेवा की चाहे नागपुर की या भुज के #भूकंप की हो, गुजरात में #अकाल हो, उड़ीसा और गुजरात में आई #बाढ़ हो, #सुनामी का महा #तांडव हो, आश्रम द्वारा सभी जगह #सेवाएं की गई ।
🚩9). इनके द्वारा सांस्कृतिक यात्राएं भी की गई। वातावरण में #सात्विकता आये, पवित्रता लाने के लिए भारतभर में #हरिनाम संकीर्तन यात्रा,सभा का आयोजन किया गया ।
🚩10). #चिकित्सा सेवा में भी आश्रम पीछे नहीं है । #होम्योपैथी चिकित्सा ऑक्फशन ग्रामीण इलाकों में जो असहाय थे वहाँ फल, दूध, दवाई अभी भी बाटें जाते हैं ।
🚩मैने ये सारा डेटा न्यूज पेपर से पढ़ा है जो कटिंग मैंने रखी है ।
🚩ऐसे व्यक्ति को इन्होंने जेल में डाल रखा है । अब आप ही जाइये आप ठीक कहते है न्यायपालिका पर भरोसा होना चाहिए । परंतु ये यकीन भी होना चाहिए जो ये समय बेकार हो रहा है उनका, जिनकी सनातन धर्म को जरूरत है उस समय का क्या किया जाएगा ??
🚩तो ये सभी बातें बताने का मतलब ये है कि जो ईसाई मिशनरी द्वारा संत श्री आसारामजी बापू के बारे में दुष्ट प्रचार किया जा रहा है अखाड़ा परिषद द्वारा उन्हें निकाले जाना ये हम सबको आपस में #लड़ाने की बहुत बड़ी #साजिश है । इसके लिए हम सबको इक्कठा होना पड़ेगा ।
🚩आज मैं एलान करता हूँ बहुत ही जल्द पूरे भारत में हम राष्ट्रपति मोदीजी के नाम पर हजारों नहीं, लाखों नहीं, करोड़ो लोगों की हस्ताक्षर अभियान भी शुरू करवाएंगे क्योंकि किसीको अधिकार नहीं है ऐसे लोग जिन्होंने शराबियों को महामंडलेश्वर की उपाधि दे दी, ऐसे लोग ऐसे संत महाराज जी को कहते है अखाड़ा से निकाल दिया ।
कितना हमारे लिए दुर्भाग्य की बात है ??
🚩तो मैं सभी से विनंती करूँगा कि संत आसारामजी बापू को छुड़वाने के लिए जो भी प्रयास किये जाए अपने अपने स्तर पर करें। क्योंकि जिन्होंने लाखों करोड़ो लोगों का धर्मातरण से घर वापसी करवाई हो ईसाई मिशनरियों के लिए ये बहुत बड़ी मुसीबत थी ।
🚩संत आसारामजी बापू को जो करना था कर दिया!
 जो समाज के भले के लिए करना था कर दिया!
 कुछ हमारी भी जिम्मेदारी बनती है ।
🚩हम सनातनियों की भी जिम्मेदारी बनती है कि हम उनके लिए कुछ करें ।
नहीं तो वो दिन दूर नहीं है आज सभी जगह चिल्ला रहे है ।
🚩जो ये महोन्दर सवार रहें है प्रदेशों से वो चीन क्यों न हो या मुसलमान चीन क्यों नहीं चले जाते ?
 ऐसे ही विदेशी ताकतें हमें दबाती रहेंगी… दबाती रहेंगी..
🚩और हमें राम मंदिर के नाम पर बुद्धू बनाया जाएगा । हमें धारा जो कश्मीर में लगी है उसके बारे में बुद्धू बनाया जाएगा । और जो-जो संत सनातन धर्म के नाम पर काम करते हैं। अभी साध्वी प्रज्ञा ठाकुरजी जो बरी होकर आए हैं । जो इतने वर्ष जो जेल में काटे कौन उनका जिम्मेदार है ?
असीमानंद जी जो बरी हुए कौन उनका जिम्मेदार है ?
 इन्होंने तो असीमानंदजी को कह दिया संत नहीं है । जिसने कई वर्ष जेल में काट दिया ।
आज बरी हुए पर इन लोगों को जेल में रखने के पीछे कारण क्या था ?
🚩एक ही कारण था…
🚩एक ही कारण… इन्होंने धर्मातरण के खिलाफ आवाज़ उठाई ।
इन्होंने #विदेशी ताकतों के #खिलाफ #आवाज़ उठाई । इन्होंने सनातनी प्रथा को आगे लाने की कोशिश की तो ये सब इनके दुश्मन बन गए ।
🚩अगर आपको मेरे विचार ठीक लगे तो शेयर करें और हम हिन्दू हस्ताक्षर अभियान शुरू करने जा रहें है जिसमे पूरा का पूरा सहयोग करें ।
– शिव सेना हिन्द राष्ट्रीय अध्यक्ष, निशांत शर्मा (चंडीगढ़)
🚩Official Azaad Bharat Links:👇🏻
🔺Youtube : https://goo.gl/XU8FPk
🔺 Twitter : https://goo.gl/kfprSt
🔺 Instagram : https://goo.gl/JyyHmf
🔺Google+ : https://goo.gl/Nqo5IX
🔺 Word Press : https://goo.gl/ayGpTG
🔺Pinterest : https://goo.gl/o4z4BJ
Attachments area
Deepak Chaurasia

न्यूज24, इंडिया न्यूज पर लटकी तलवार, उनके पद अधिकारी कभी भी हो सकते हैं गिरफ्तार

#ArrestDeepakCHORasia, anchor deepak chaurasia, currupt Deepak chaurasia, India news, pocso, अक्टूबर 8, 2017
🚩नोयडा : इंडिया न्यूज, न्यूज 24, #न्यूज नेशन ने गुरुग्राम में रहने वाली एक छोटी मासूम बच्ची के वीडियो के साथ #छेड़छाड़ी करके #MMS बनाय था, उसके माता पिता आहत होकर केस दर्ज करवाया ।
News 24, a hanging sword on India news, Their officials can be arrested anytime

 

🚩दो साल से गुरुग्राम महिला पुलिस थाना में #पोक्सो एक्ट जैसे गंभीर धाराओं के तहत #FIR दर्ज है लेकिन गुडगांव के पुलिस प्रशासन ने अभी तक इस  F.I.R प्रकरण में वादीपक्ष  के बयान तक #दर्ज #नहीं किये और ना ही कोई कार्यवाही की जा रही है।
🚩#पुलिस प्रशासन द्वारा #कार्यवाही #नहीं किए जाने के कारण हिन्दू संगठन एवं #जनता अपना #आक्रोश प्रकट करने एवं आरोपियों पर तत्काल कार्रवाई की मांग को लेकर रविवार को महिला पुलिस थाना गुरुग्राम पहुंचे।
🚩पुलिस थाना पहुंचे हिन्दू संगठनों ने इंडिया न्यूज, न्यूज नेशन, न्यूज़24 के पदाधिकारियो को तुरंत गिरफ्तार करने की मांग की, साथ ही संगठनों द्वारा #पुलिस #प्रशासन की #निष्क्रियता पर सवाल उठाए गये।
🚩आज ट्वीटर पर भी इंडिया न्यूज के चीफ एडिटर को गिरफ्तार करने की मांग को लेकर हजारों यूजर #ArrestDeepakCHORasia हैशटेग पर ट्वीट कर रहे हैं ।
🚩आइये आपको बताते है दीपक चौरसिया के खिलाफ यूज़र्स क्या कह रहे हैं….
🚩1. मेघा अग्रवाल कहती हैं कि हिन्दू संगठन ने दीपक चौरसिया की गिरफ्तारी की उठाई मांग, HMO व प्रसारण मंत्रालय को देंगे ज्ञापन। #ArrestDeepakCHORasia
🚩2. शंकर दत्त जोशी लिखते हैं कि दीपक चौरसिया को हर हाल में होना होगा पेश! गैर-जमानती वारंट की तौहीन न्यायव्यस्था पर एक प्रश्नचिन्ह ! #ArrestDeepakCHORasia
🚩3. छगन लाल का कहना हैं कि भारत सरकार को ज्ञात हो कि इंडिया न्यूज का दीपक चौरसिया कानून व्यवस्था को खुलेआम चकमा दे रहा है ! #ArrestDeepakCHORasia
🚩4. मनोज उपाध्याय कहते हैं कि निर्दोष संतों के लिये सारे कानून, लेकिन अपराधी नेता अभिनेताओं पत्रकारों के लिए सारे नियम क्यों ताख पर! #ArrestDeepakCHORasia
🚩5. प्रिया कहती हैं कि दीपक चौरसिया पर कानून मेहरबान क्यों ?
 POCSO Act लगने के बाद भी गिरफ्तार नही! #ArrestDeepakCHORasia https://t.co/FkQ3xv0KIl
🚩6. खुशबू का कहना है कि जब गुनाह किसी पत्रकार या नेता द्वारा होता है तो कानून बदल क्यूँ जाता है ?? #ArrestDeepakCHORasia https://t.co/jTnJ3MKK3L
🚩7. गौरव का कहना है कि धन व TRP के लिए सारी हदें तोडने वाले गैर जिम्मेदार पत्रकारों पर पाबंदी लगानी चाहिए। #ArrestDeepakCHORasia https://t.co/CxNoKWhhLx
🚩8. कृष्णा कहती हैं कि दीपक चौरसिया ने की सारी हदें पार ! कोर्ट के गैर-जमानती वारंट का खुलेआम कर रहा उल्लंघन !! #ArrestDeepakCHORasia
🚩आपको बता दें कि इंडिया न्यूज के चीफ एडिटर दीपक चौरसिया सहित कई बड़े -बड़े अधिकारियों ने बापू आशारामजी के खिलाफ कई मनगढंत झूठी कहानियां बनाकर दिखाने पर पटना कोर्ट द्वारा कई बार गिरफ्तारी का वॉरन्ट निकाला गया है पर डर के कारण पुलिस प्रशासन उनको गिरफ्तारी नही कर पा रहा है।
 🚩ट्वीटर पर भी कई बार दीपक चौरसिया की गिरफ्तारी की मांग की गई है ।
🚩गरुग्राम में आये सभी हिन्दू सगठनों का कहना है कि #हिन्दू संतों को आधी रात में #बिना #सबूत #गिरफ्तारी करने वाली #पुलिस #सबूत होते हुए, कोर्ट का आदेश होते हुए भी #मीडिया के #मालिकों को #गिरफ्तार #क्यों #नहीं कर रही है ??
🚩जनता को है इंतजार उस दिन का जिस दिन कानून सबके साथ समानता का व्यवहार करेगा !!
🚩Official Azaad Bharat Links:👇🏻
🔺Youtube : https://goo.gl/XU8FPk
🔺 Twitter : https://goo.gl/kfprSt
🔺 Instagram : https://goo.gl/JyyHmf
🔺Google+ : https://goo.gl/Nqo5IX
🔺 Word Press : https://goo.gl/ayGpTG
🔺Pinterest : https://goo.gl/o4z4BJ
innocent-is-not-getting-bail-convicted-sasikala-gets-parole

निर्दोषों को नहीं मिल रही है जमानत, दोषी शशिकला को मिल गई पैरोल

अक्टूबर 7,2017
🚩आय से अधिक संपत्ति के मामले में अदालत का फैसला आने में 19 साल का वक्त लगा, 19 साल बाद सुप्रीम कोर्ट ने वी .के. शशिकला को दोषी करार दिया और चार साल की सजा सुनाई है ।
🚩कर्नाटक जेल में बंद शशिकला को अपने बीमार पति से मिलने के लिए शुक्रवार को पांच दिन का पैरोल मिल गया है।
Innocent is not getting bail, convicted Sasikala gets parole

 

🚩पर जनता सवाल कर रही है कि ओडिसा के ओझर जेल में दारा सिंह(बजरंगदल) पिछले 18 सालों से सजा काट रहे हैं  जिन्हे अपने परिजनों से मिलने के लिए एक भी पैरोल नहीं मिली है और वहीं दूसरी तरफ वो शशिकला हैं  जिन्हें जेल में अभी 6 महीने हुए हैं उसको पैरोल दे दी गयी।
🚩दूसरा मामला हिन्दू संत आसारामजी बापू का है वे चार साल से अधिक समय से जोधपुर जेल में बंद हैं, उन पर अभी तक एक भी #आरोप #सिद्ध #नहीं #हुआ है, केवल #ट्रायल चल रहा है , उनकी उम्र 81 वर्ष है , उनका स्वास्थ्य भी काफी खराब रहता है लेकिन उनको इलाज कराने के लिए कुछ दिन के लिए भी #जमानत #नहीं मिल रही है, जबकि भारत के कानून के अनुसार जब तक दोष सिद्ध नहीं होता है तब तक उनको जमानत मिलती है लेकिन उनको जमानत नहीं मिल रही है ऐसी दोहरी नीति क्यों ?
🚩जबकि बापू #आसारामजी को #फंसाने के कई #सबूत भी मिले हैं और लड़की की #मेडिकल रिपोर्ट में एक खरोंच भी  नहीं पाई गई, मेडिकल में भी #क्लीन चिट मिल चुकी है, डॉ. सुब्रमण्यम स्वामी ने केस पढ़कर बताया कि लड़की के #कॉल डिटल्स से पता चला कि जिस समय छेड़छाड़ी का आरोप लगाया है उस समय तो वहाँ थी ही नहीं, वो अपने मित्र से बात कर रही थी और बापू आसारामजी भी दूसरे कार्यक्रम में थे तो केस बनता ही नहीं है ।
🚩डॉ. सुब्रमण्यम स्वामी  ने तो यहाँ तक कह दिया है कि मैंने तो #आशाराम बापू के जेल जाने से पहले ही  उनको बता दिया था कि आप जो #हिन्दू #धर्मपरिवर्तन कर चुके लाखों हिंदुओं की घर वापसी करवा रहे हो और धर्मपरिवर्तन पर #रोक #लगाई है इससे #वेटिकन सिटी बहुत नाराज है , #सोनिया गांधी से मिलकर आपको #जेल भेजने का #प्लान बना रहे  हैं ।
🚩और आखिर यही हुआ झूठा केस दर्ज करवाकर #मीडिया द्वारा #बदनाम करवाकर जेल भिजवाया गया ।
🚩#दारा सिंह(बजरंगदल) ने भी #धर्मपरिवर्तन का खूब #विरोध किया था वे ईसाई #मिशनरियों को धर्मपरिवर्तन करने नहीं दे रहे थे उसके फल स्वरूप जेल जाना पड़ा ।
🚩शशिकला जेल में लक्जिरियस जिंदगी जी रही हैं उसके कई खुलासे भी हुए हैं लेकिन इन हिन्दू समर्थकों को जेल में भी कोई विशेष सुविधा नहीं मिल रही है न ही पैरोल या जमानत ही दी जा  रही है ।
🚩आखिर ये किस तरह की दोहरी नीति है, जहां #भ्रष्टाचारी नेता की पैरोल की मांग उचित समझी जाती है और हिन्दू समर्थकों व हिंदुत्व के हक की लड़ाई लड़ने वालों को कानून द्वारा प्राप्त अधिकारों से भी वंचित रखा जाता है।
🚩#संजय दत्त को भी #दोषी सिद्ध होने पर भी बार-बार पैरोल पर छोड़ा जाता था, #लालूप्रसाद यादव भी बाहर घूम रहे हैं, पत्रकार तरुण #तेजपाल पर #आरोप #सिद्ध होने पर भी बाहर हैं, 9000 करोड़ लेकर भाग जाने वाला विजय माल्या को गिरफ्तार करने के बाद 3 घण्टे में जमानत मिल जाती है इससे सिद्ध होता है कि #नेता, #अभिनेता, #पत्रकार और #अमीरों को तुरंत #जमानत हासिल हो सकती है लेकिन हिंदुत्वनिष्ठों को न जमानत मिलती है  न ही कोई विशेष सुविधा ।
🚩सालों से हम देख रहे हैं कि एक के बाद एक #हिंदुत्वनिष्ठों को #टारगेट किया जा रहा है और हिन्दू मूक दर्शक बन तमाशा देख रहा हैलल
। पर अगर ऐसे ही चलता रहा तो एक समय ऐसा आएगा जब हिंदुओं के पक्ष में बोलने वाला कोई नहीं रहेगा ।
🚩अभी भी समय है चेत सकें तो चेत !!
एक कवि ने लिखा है :-
आज उठ रही हर ऊँगली #न्याय व्यवस्था पर,
जहाँ #भ्रष्टाचार का बोलबाला है,
निर्दोष सालों से बैठे जेल में न्याय की आस लगाये
और दोषी पा रहे पैरोल व बेल, वाह री न्याय व्यवस्था,अजब तेरा खेल !!
🚩Official Azaad Bharat Links:👇🏻
🔺Youtube : https://goo.gl/XU8FPk
🔺 Twitter : https://goo.gl/kfprSt
🔺 Instagram : https://goo.gl/JyyHmf
🔺Google+ : https://goo.gl/Nqo5IX
🔺 Word Press : https://goo.gl/ayGpTG
🔺Pinterest : https://goo.gl/o4z4BJ
देवेंद्र गांधी, Devendra Gandhi

भारत का मीडिया बन गया है वेश्या का कोठा : पत्रकार देवेंद्र गांधी

अक्टूबर 5, 2017
सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हो रहा है पत्रकार देवेंद्र गांधी का उसमें उन्होंने मीडिया को पूरा नंगा कर दिया है ।
उन्होंने बताया – मीडिया का फंडिग कहाँ से आता है और कौन उसको हैंडल करता है, मीडिया में जो खबरें दिखाई जाती है वे कितनी सच होती है, उन्होंने मीडिया को वेश्या का कोठा बताया ।
India’s media has become prostitutes: journalist Devendra Gandhi

 

आइये जानते है क्या कहा देवेंद्र गांधी ने…
उन्होंने कहा कि नमस्कार दोस्तों मैं हूं देवेंद्र गांधी।
 #देवेंद्र गांधी एक नाम है आपके लिए, लेकिन मैं मीडिया से जुड़ा हुआ हूं।
मीडिया की क्या हैसियत है आज की तारीख में , मीडिया का क्या रुतबा है आज की तारीख में , मीडिया को लोग किस तरह से किस नजरिए से देखते हैं आज की तारीख
इस पर बात करूंगा और साथ ही साथ आपको ये भी बताऊंगा कि देश के बड़े-बड़े मीडिया हाउसेस कहां से चल रहे हैं ?
कौन उन्हें चला रहा है और कौन उनका मालिक हैं ?
आप और हम अक्सर ये सोचते होंगे कि मीडिया निष्पक्ष है, मीडिया दबाव में काम नहीं करता लेकिन अगर आप आंकड़े देखेंगे और मीडिया चैनल्स के मालिकों की लिस्ट देखेंगे तो आपको थोड़ा-थोड़ा लगने लगेगा कि मीडिया उतना निष्पक्ष नहीं रहा,मीडिया उतना स्वतंत्र नहीं रहा जितना कि हम सोचते हैं या जितने की हम कामना करते हैं।
यूं तो मीडिया को लोकतंत्र का चौथा स्तंभ कहा जाता है, लेकिन आज की तारीख में मुझे लगता है कि मीडिया लोकतंत्र का चौथा स्तंभ तो कतई नहीं है।
लोकतंत्र का चौथा स्तंभ पूरी तरह से या तो ढेर हो चुका है, जर्जर हो चुका है या तो ढेर होने के कगार पर है ।
अगर आज हमने खुद को नहीं संभाला, हमको मतलब मीडिया ने खुद को नहीं संभाला तो ये पिल्लर एक दिन पूरी तरह से धराशाई हो जाएगा और इसका इल्जाम भी मीडिया के सिर ही आएगा, क्योंकि हम खुद इसके लिए जिम्मेदार हैं और हमें इसकी जिम्मेदारी लेनी भी होगी ।
आज मैं आपको यह बताना चाहूंगा कि मीडिया के कौन-कौन से हाउसेस प्रमुख हाउस इस देश में चल रहे हैं,
लेकिन इससे पहले मैं 2 बड़े सवाल उठाता हूं, क्या मीडिया इस समय मंडी बन चुका है ?
क्या #मीडिया #पूंजीवादी व्यवस्था की रखेल हो चुका है ?
क्या #मीडिया कोठे की #वेश्या बन चुका है?
 ये सवाल बड़े गंभीर हैं क्योंकि मैं खुद मीडिया से जुड़ा हुआ हूँ इसलिए ये सवाल और भी गंभीर हो जाते हैं, क्योंकि यह सवाल मैं किसी और पर नहीं उठा रहा यह सवाल मैं अपने आप पर ही उठा रहा हूँ एक तरह से।
मैं उतना बड़ा पत्रकार नहीं हूँ कि टेलीविजन चैनल पर खड़ा होकर के इन सब बातों को बोलूं ।
 कोई बोलेगा भी नहीं क्योंकि जब मैं आपको लिस्ट बताऊंगा कि चैनलों के मालिक कौन है तो आप भी सोच कर हैरान रहेंगे कि बड़े-बड़े पत्रकारों के नाम टेलीविजन चैनल पर देखते हैं और सोचते हैं कि शायद इन चैनलों की टेलीविजन चैनलों के मालिक भी यही होंगे और यह पत्रकार ही खबरें तय करते होंगे, नहीं ऐसा नही है पत्रकार कभी भी कतई खबरें तय नहीं करते। यह पूरा प्रोसेस होता है, प्रबंधन खबरों को तय करता है कौन सी खबर दिखाई जानी है , कौन सी खबर नहीं दिखाई जानी ।
TRP का तो मामला है ही कि #TRP की अंधी दौड़ चल रही है। इसके अलावा भी और भी बहुत सारे दबाव होते हैं कभी सत्ता पक्ष का तो कभी विपक्ष का और इस समय जो मीडिया की भूमिका है वह इस तरह से है जिस तरह से एक पूंजीवादी आदमी की कोई दूसरी रखेल हो।
मैं आपको बताऊंगा दोस्तों कि मीडिया में आज कौन-कौन से प्रमुख चैनल है व इसके मालिकाना हक किस-किस के पास हैं।
सबसे पहले मैं आपको बताता हूँ आज तक टेलीविजन चैनल के बारे में, ये #इंडिया न्यूज ग्रुप चैनल है जिसके संचालनकर्ता धर्ता जो है वो #अरुण पूरी जी हैं, अरुण पूरी वैसे पेशे से पत्रकार ही हैं।
दूसरा बड़ा चैनल है देश में #ABP न्यूज कुछ समय पहले तक ABP News उसका नाम स्टार न्यूज हुआ करता था तब इसमें ज्यादा हिस्सेदारी थी स्टार न्यूज की, इसका नाम जो है स्टार न्यूज होता था। अरसे बाद कुछ समय पहले ही इस चैनल का नाम एबीपी न्यूज हो गया क्योंकि ABP अनंत बाजार पत्रिका ने इसका मेजर शेयर स्टॉक था, इसने अपने पास रख लिया।  इस चैनल को चलाती है #अभिजीत सरकार जो कि पश्चिम बंगाल की पुष्ट भूमि से आते हैं जो टेलीविजन से भी जुड़े रहे है।
तीसरा बड़ा चैनल है देश का #India TV, India TV की स्थापना 20 मई 2004 को हुई थी और जिसको होस्ट करते हैं आज की तारीख में #रजत शर्मा, #ऋतु धवन को तो आप जानते ही हैं , ये भी पेशे से पत्रकार हैं ।
एक चैनल और है News24,
 News24 के जो मालिक है उनके बारे में दिलचस्प जानकारी देता हूँ, केंद्रीय मंत्री जो है श्री रवि शंकर प्रसाद जी उनकी बहन है #अनुराधा प्रसाद और #राजीव शुक्ला जो #कांग्रेस के नेता हैं ये दोनों मिलकर के इस चैनल को चलाते हैं ।
क्रिकेट एसोसिएशन से भी, बीसीसीआई से भी जुड़े रहे राजीव शुक्ला जी।
 वैसे राजीव शुक्ला जी की पहचान एक पत्रकार के तौर से शुरुआत होती है लेकिन वो कब इतने बड़े ग्रुप के मालिक बन जाते हैं ये अपने आप में एक सवाल है।
तीसरा बड़ा घराना है जो है ZeeNews,
# ZeeNews के जो मालिक है डॉक्टर सुभाष चंद्रा एस्सेल ग्रुप ही Zee News चैनल को चलाता है Zee News के अलावा और भी Zee हिंदुस्तान व और भी कई सारे चैनल है जो एस्सल ग्रुप की तरफ से चलाए जाते हैं और जिनके मालिक है #डॉक्टर सुभाष चंद्रा।
डॉक्टर सुभाष चंद्रा इन दिनों राज्यसभा के मेंबर हैं, सभी जानते हैं कि #हरियाणा से #राज्यसभा मेंबर चुने गए थे वो और भाजपा ने उन्हें समर्थन दिया था।
वैसे वो निर्दलीय तौर पर राज्यसभा के सदस्य चुने गए थे और ये जो Zee ग्रुप है वो उनका उनके मालिकाना हक वाली कंपनी है।
तीसरी बड़ी कंपनी है #इंडिया न्यूज। इंडिया न्यूज जो है वो है विनोद शर्मा, यानी #मनु शर्मा के जो पिताजी है विनोद शर्मा, हरियाणा के मंत्री भी रहे केंद्र में भी वो मंत्री रहे, कार्तिक शर्मा जो विनोद शर्मा जी का बेटा हे वो इस न्यूज चैनल को चलाता है।
और एक न्यूज चैनल है हमारे देश में न्यूज 18 इस न्यूज चैनल पर जो दबदबा है जो रुतबा है या इस न्यूज का जो मालिकाना हक है वो है रिलायंस इंडस्ट्रीज के पास। आप चैनल खोलिएगा जब आप टेलीविजन खोलते हैं तो सबसे पहले न्यूज इंडिया TV फिर न्यूज 18 फिर ABP News फिर इस तरह से आप चैनलों की रिमोट पर हाथ रखते रखते चैनल आगे बढ़ते जाते हैं। तो ये जो चैनल है ये कार्तिक शर्मा इसको चला रहे हैं ।
इसके अलावा एक  चैनल और है NDTV इंडिया।  #NDTV इंडिया की स्थापना 1988 में हुई थी जो कि मैंने नेट से चेक किया है और इसको चलाने वाले हैं #प्रणव राय और उसकी पत्नी #राधिका राय और चेयर पर्सन और उनके मालिक का नाम दिया है विधान सिंह जो कि NDTV इंडिया के बारे में बताया जा रहा है।
आज सवाल यह है कि क्या ये चैनल निष्पक्ष है ??
 बड़ा सवाल आपके सामने ये भी उठता होगा कि जब आप टेलीविजन पर रिमोट पर हाथ दबाते होंगे न्यूज चैनल की तरफ तो जब भी आप टेलीविजन खोलते हैं तो आपके मन में ये बड़ा सवाल उठता होगा, क्या ये चैनल वही दिखा रहा है जो आप देखना चाहते हैं ?
 या चैनल अपना एजेंडा चला रहे हैं, ये सवाल क्यों उठ रहे हैं ?
ये सवाल इसलिए उठ रहे हैं क्योंकि जो कुछ आप देखना चाहते हैं वो ये चैनल दिखाना नहीं चाहते। अगर ऐसा होता तो आपके मन में ये शंका ये सवाल कतई नहीं उठते। इसलिए आज सोशल मीडिया पर सबसे बड़ा जो सवाल है वो मीडिया पर ही उठ रहा है ।
मैं रोज देखता हूँ आप भी देखते होंगे कि मीडिया रोज ये दिखाता है कि वायरल सच।  इसका वायरल सच क्या है किसका वायरल सच क्या है। लेकिन मीडिया कभी ये दिखाने की कोशिश नहीं करता कि उनका (मीडिया का) अपना वायरल सच क्या है।
आज #मीडिया को #चोर , #भ्रष्ट #बेईमान न जाने किन किन तरीकों से नवाजा जा रहा है और जब मैं  इन चीजों को देखता हूँ तो कई बार व्यथित भी हो जाता हूँ, दुखी भी होता हूँ क्योंकि मैं भी मीडिया से जुड़ा हुआ हूं और ये पीड़ा सहनी पड़ती है कि जब लोग कहते हैं कि मीडिया #बिकाऊ है । मीडिया बिक गया है और  ये सवाल मीडिया को सोचना चाहिए।
 क्या उनके सामने यह तस्वीर नहीं जाती की उनके बारे में क्या कहा जा रहा है ? और आज देश में जो हालात है मीडिया को लेकर । ये बातें क्यों होती है ? क्योंकि मीडिया में बहुत सारे पूंजीवादी व्यवस्था के हाथों खेल रहे हैं, वो जो ग्रुप है वो जो प्रबंधन है ,वो तय करता है कि आप कौन सी खबर दिखाएंगे कौन सी खबर नहीं दिखाएंगे।
ये आज से नहीं है , ये काफी समय से ऐसा होता आ रहा है, चला आ रहा है कि आज कौन सी खबर कौन तय करेगा।
 हम पत्रकार है, मैं बड़ी सच्चाई के साथ बड़ी ईमानदारी के साथ यह कहना चाहता हूँ कि पत्रकार के पास ये अधिकार नहीं है कि क्या खबर चलाई जाए, क्या खबर दिखाई जाए ??
 शुक्र है मार्क जुकरबर्ग का जिसने हमें facebook पर एक मंच दे दिया , इसलिए हम कुछ भी बताते हैं , कोई भी वीडियो अपलोड करते हैं , कुछ भी लाइव चला देते हैं। ये स्वतंत्रता थोड़ी बची है जबकि मीडिया की जो स्वतंत्रता टेलीविजन चैनल हो या अखबार हो उनकी निष्पक्षता पर सवाल उठे हैं और यह सवाल हमने खुद ही अपने ऊपर खड़े किए हैं क्योंकि हम उतने निष्पक्ष नहीं है जितने कि लोग सोचते हैं।
लोगों को लगता है कि हमारे सामने महंगाई का मुद्दा उठाया जाएगा लेकिन हम नहीं उठाते। हम क्या मुद्दे उठाते हैं, तीन तलाक ट्रिपल तलाक पर रहता है। तीन चार मौलानाओं को बुला लिया जाता है इधर से बीजेपी के एक लीडर को उधर से कांग्रेस के एक लीडर को इधर से सीपीआई के एक लीडर को उधर से आम आदमी पार्टी के लीडर को यानी व्यवस्था को इस तरह से कर दिया जाता है कि तमाम व्यवस्था को सिर्फ यह पांच सात दस लोग ही चलाने वाले हैं। आम लोगों से इस बारे में कोई राय नहीं ली जाती कोई मशवरा नहीं किया जाता इसलिए भी मीडिया पर सवाल उठ रहे हैं।
आज कल इन दिनों हिंदू मुसलमान का एक बड़ा फसाद दिखाया जा रहा है और रोहिंग्या मुसलमानों को ले करके भी TRP और अभी थोड़े दिन पहले बाबा राम रहीम का जो प्रकरण हुआ गुरमीत राम रहीम का, उसको लेकर के तो मीडिया की भूख मिट ही नहीं रही। TRP की भूख इस तरह से हासिल है कि जो काम हुआ ही नहीं उसको एकदम से फ़्लैश किया।
 यानी आप देखिए इतनी जल्दी थी मीडिया चैनलों को फैसले को लेकर कि मीडिया चैनलों ने अपने आप ही सजा सुना दी 10 साल की। जज ने सजा सुनाई 10+10 की लेकिन मीडिया में ब्रेकिंग न्यूज आई,सब चैनलों पर एक ही न्यूज थी कि बाबा को सजा 10 साल की..
यानी कोई भी सब्र नहीं करना चाहता की फैक्ट लाया जाए।
हम भी इसमें शामिल हैं हम भी जब मौके पर जाते हैं देखते हैं कि चेन मिसिंग हो गई ये भी पूछने की कोशिश नहीं करते भई चेन सोने की थी, असली थी, नकली थी, हम ये भी कोशिश नहीं करते कि दो लाशें  पानी में बह रही है, किसकी है औरत की है,हम फटाफट कोशिश करते हैं आपस में कोई जल्दी से जल्दी खबर को ब्रेक करने की, हमारे अंदर इतनी जल्दी होती है या होड़ होती है कि फटाफट खबर को ब्रेक कर दिया जाए उसके फैक्ट्स बाद में आते रहते हैं तो हम बाद में कॉमेंट्स में या उस पोस्ट में एडिट करके लिखते हैं। ये आज की विडंबना है। असलियत यही है,हकीकत यही है कि मीडिया की वो भूमिका सामने नहीं आ रही जिस भूमिका की लोग हमसे उम्मीद करते हैं।
 मैं उसमें शामिल हूँ और सबसे बड़ा कटाक्ष भी मैं आज खुद पर कर रहा हूँ, मैं किसी दूसरे पर उंगली नहीं उठा रहा, अगर कुछ साथियों को लगे कि ये मीडिया पर उंगली उठा रहा है या ये अपने आप को साफ चरित्र का पत्रकार बताने में लगा हुआ है तो दोस्तों ऐसा कतई नहीं है।
आप भी अपने अंदर झांकिए, मैंने तो झांका ही है और मुझे ये लगता है कि मीडिया उतना निष्पक्ष उतना साफ इतना बेदाग नहीं है।
हम कोठे पर एक वेश्या की तरह हैं,  हम पूंजीवादी लोगों की रखेल की तरह हैं और इसलिए आज हम पर सबसे बड़े सवाल उठ रहे हैं क्योंकि हमने खुद को मंडी के रूप में तब्दील कर लिया है। किसी की कीमत इतनी किसी की कीमत इतनी।
दोस्तों मीडिया को मंडी होने से बचाइए, हमारा साथ दीजिए इस खबर को दूर-दूर तक पहुंचाइए अगर आप इस खबर को दूर-दूर तक पहुंचाने में सफल रहे, कामयाब रहे तो शायद कारगिल पर में जो जा करके जो सियाचिन में जाकर के अपने देश भक्ति की भावना दिखाते हैं टेलीविजन चैनलों पर छाती ठोक करके अपने आप को राष्ट्रभक्त बताते हैं और कोई ईमानदार बताते हैं ।
कोई सरकार की बखिया उधेड़ रहा है तो कोई सरकार को पॉलिश करने में लगा हुआ है। दोनों ही तरह के लोग हमारे सामने हैं । आपको ही तय करना है कि हमें किसे देखना है किसे नहीं देखना।
मुझे लगता है कहीं मीडिया हाउसेस जो है वो सरकार को चमकाने में लगे हुए हैं और कई मीडिया हाउसेस ऐसे हैं जो बिन देखे ही बिना कोई प्रमाण के सरकार के बखिया उधेड़ने पर लगे हुए हैं। यानी कुछ मीडिया हाउसेस सरकार का समर्थन जुटाने में और कुछ मीडिया हाउसेस यह दिखाने में कि हम सरकार से पावरफुल है।
दोस्तो ऐसा मत कीजिए आप अपने देश के बारे में सोचिए जो सही है उसे सही दिखाइए जो गलत है उसे गलत दिखाइए क्योंकि अगर मीडिया नहीं बचेगा तो मैं यकीन के साथ कह सकता हूँ लोकतंत्र में कुछ नहीं बचेगा।
हम किसी के पांव की जूती ना बने ,हम किसी पूंजीवादी की रखेल ना बने, हम किसी कोठे की वेश्या ना बने और हम पूंजीवादी चौखट पर घुटने ना टेके, माथा ना रगड़े ।
 ये सवाल हमारे सामने है और इसका हल भी हमें ही खोजना है। मेरा आपसे फिर अनुरोध है इस खबर को हो सके तो ज्यादा से ज्यादा शेयर कीजिए ।
 – पत्रकार देवेंद्र गांधी
Official Azaad Bharat Links:👇🏻
🔺Youtube : https://goo.gl/XU8FPk
🔺 Twitter : https://goo.gl/kfprSt
🔺 Instagram : https://goo.gl/JyyHmf
🔺Google+ : https://goo.gl/Nqo5IX
🔺 Word Press : https://goo.gl/ayGpTG
🔺Pinterest : https://goo.gl/o4z4BJ
sharad poonam

शरद पूर्णिमा पर क्या करने से साल भर स्वथ्य रहे और धनप्राप्ति कैसे करें?

अक्टूबर 4, 2017
शरद पूर्णिमा – 5 अक्टूबर 2017
 आश्विन मास के शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा को ‘शरद पूर्णिमा’ बोलते हैं । #शरद_पूर्णिमा की रात्रि पर चंद्रमा पृथ्वी के सबसे निकट होता है और अपनी सोलह कलाओं से परिपूर्ण रहता है। इस रात्रि में #चंद्रमा का ओज सबसे तेजवान और ऊर्जावान होता है। #पृथ्वी पर शीतलता, पोषक शक्ति एवं शांतिरूपी अमृतवर्षा करता है ।
इस दिन #रास-उत्सव और कोजागर व्रत किया जाता है । #गोपियों को शरद पूर्णिमा की रात्रि में #भगवान श्रीकृष्ण ने बंसी बजाकर अपने पास बुलाया और ईश्वरीय अमृत का पान कराया था ।
यूं तो हर माह में पूर्णिमा आती है, लेकिन #शरद पूर्णिमा का महत्व उन सभी से कहीं अधिक है। हिंदू धर्म ग्रंथों में भी इस #पूर्णिमा को विशेष बताया गया है।
What to do on Sharad Purnima, how to stay healthy all year and get money?
#शरद पूर्णिमा से जुड़ी बातें….
इस दिन चंद्रमा की किरणें विशेष अमृतमयी गुणों से युक्त रहती हैं, जो कई बीमारियों का नाश कर देती हैं। यही कारण है कि #शरद #पूर्णिमा की रात को लोग अपने घरों की छतों पर खीर रखते हैं, जिससे #चंद्रमा की किरणें उस #खीर के संपर्क में आती है, इसके बाद उसे खाया जाता है।
#नारद पुराण के अनुसार #शरद पूर्णिमा की धवल चांदनी में मां लक्ष्मी अपने वाहन उल्लू पर सवार होकर अपने कर-कमलों में वर और अभय लिए निशिद काल में पृथ्वी पर भ्रमण करती है। #माता यह देखती है कि कौन जाग रहा है?
यानी अपने कर्तव्‍यों को लेकर कौन जागृत है? जो इस रात में जागकर मां #लक्ष्मी की उपासना करते हैं, मां उन पर असीम कृपा करती है।
वैज्ञानिक भी मानते हैं कि #शरद पूर्णिमा की रात स्वास्थ्य व सकारात्मकता देने वाली मानी जाती है क्योंकि #चंद्रमा धरती के बहुत समीप होता है। #शरद पूर्णिमा की रात चन्द्रमा की किरणों में खास तरह के लवण व विटामिन आ जाते हैं। पृथ्वी के पास होने पर इसकी किरणें सीधे #जब खाद्य पदार्थों पर पड़ती हैं तो उनकी #क्वालिटी में बढ़ोतरी हो जाती है।
#शरद पूर्णिमा के शुभ अवसर पर सुबह उठकर व्रत करके अपने #इष्ट देव का पूजन करना चाहिए। #इन्द्र और महालक्ष्मी जी का पूजन करके घी का दीपक जलाकर, गंध पुष्प आदि से पूजन करना चाहिए। #ब्राह्मणों को खीर का भोजन कराना चाहिए और उन्हें दान दक्षिणा प्रदान करनी चाहिए।
#लक्ष्मी प्राप्ति के लिए इस व्रत को विशेष रूप से किया जाता है। कहा जाता है कि #इस दिन जागरण करने वाले की धन-संपत्ति में वृद्धि होती है।
#शरद पूनम की रात को क्या करें, क्या न करें ?
 #अश्विनी कुमार देवताओं के वैद्य हैं । जो भी इन्द्रियाँ शिथिल हो गयी हों, उनको पुष्ट करने के लिए चन्द्रमा की चाँदनी में खीर रखना और भगवान को भोग लगाकर अश्विनी कुमारों से प्रार्थना करना कि #‘हमारी इन्द्रियों का बल-ओज बढ़ायें ।’ फिर वह खीर खा लेना ।
इस रात सूई में धागा पिरोने का अभ्यास करने से नेत्रज्योति बढ़ती है ।

 चन्द्रमा की चाँदनी गर्भवती महिला की नाभि पर पड़े तो गर्भ पुष्ट होता है । #शरद पूनम की चाँदनी का अपना महत्त्व है लेकिन बारहों महीने चन्द्रमा की चाँदनी गर्भ को और औषधियों को पुष्ट करती है ।#अमावस्या और पूर्णिमा को चन्द्रमा के विशेष प्रभाव से समुद्र में ज्वार-भाटा आता है । जब चन्द्रमा इतने बड़े दिगम्बर समुद्र में उथल-पुथल कर विशेष कम्पायमान कर देता है तो हमारे शरीर में जो जलीय अंश है, सप्तधातुएँ हैं, #सप्त रंग हैं, उन पर भी #चन्द्रमा का प्रभाव पड़ता है । इन दिनों में अगर काम-विकार भोगा तो विकलांग संतान अथवा जानलेवा बीमारी हो जाती है और यदि उपवास, व्रत तथा सत्संग किया तो तन तंदुरुस्त, मन प्रसन्न होता है।

#खीर को बनायें अमृतमय प्रसाद…
#खीर को रसराज कहते हैं । सीताजी को अशोक वाटिका में रखा गया था । रावण के घर का क्या खायेंगी सीताजी ! तो इन्द्रदेव उन्हें खीर भेजते थे ।
खीर बनाते समय घर में चाँदी का गिलास आदि जो बर्तन हो, आजकल जो मेटल (धातु) का बनाकर चाँदी के नाम से देते हैं वह नहीं, असली चाँदी के बर्तन अथवा असली सोना धोकर खीर में डाल दो तो उसमें रजतक्षार या सुवर्णक्षार आयेंगे । लोहे की कड़ाही अथवा पतीली में खीर बनाओ तो लौह तत्त्व भी उसमें आ जायेगा ।
#इलायची, खजूर या छुहारा डाल सकते हो लेकिन बादाम, काजू, पिस्ता, चारोली ये रात को पचने में भारी पड़ेंगे । #रात्रि 8 बजे महीन कपड़े से ढँककर चन्द्रमा की चाँदनी में रखी हुई खीर 11 बजे के बाद भगवान को भोग लगा के प्रसादरूप में खा लेनी चाहिए । लेकिन देर रात को खाते हैं इसलिए थोड़ी कम खाना ।
सुबह गर्म करके भी खा सकते हो ।
(खीर दूध, चावल, मिश्री, चाँदी, #चन्द्रमा की चाँदनी – इन पंचश्वेतों से युक्त होती है, अतः सुबह बासी नहीं मानी जाती ।) यह खीर खाने से सालभर मनुष्य स्वथ्य रहता है ।
भगवान श्रीकृष्ण कहते हैं,#’पुष्णामि चौषधीः सर्वाः सोमो भूत्वा रसात्मकः।।’
अर्थात रसस्वरूप अमृतमय #चन्द्रमा होकर सम्पूर्ण औषधियों को अर्थात वनस्पतियों को पुष्ट करता हूं। (गीताः15.13)
Official Azaad Bharat Links:👇🏻
🔺Youtube : https://goo.gl/XU8FPk
🔺 Twitter : https://goo.gl/kfprSt
🔺 Instagram : https://goo.gl/JyyHmf
🔺Google+ : https://goo.gl/Nqo5IX
🔺 Word Press : https://goo.gl/ayGpTG
🔺Pinterest : https://goo.gl/o4z4BJ